BAPU! Pyare Bapu! Hamaare Bapu!!

Posted मार्च 22, 2014 by HariOm Group
श्रेणी: Uncategorized

Image

 

 

बापू – महज़ एक दो अक्षर का नाम नहीं हैं !

बेसहाराओं का सहारा हैं बापू ,
हमारे तारणहार हैं बापू।
करोड़ों साधकों की आस्था व विश्वास हैं बापू ,
हमारे प्राण हैं बापू

सत्य को हर युग में अग्नि परीक्षा से गुज़रना ही पड़ता है । पहले असुर ऋषियों की तपस्या तथा सात्विकता भंग करते थे और अब यह भूमिका मीडिया , सरकार और धर्मान्तरण संघठनों की है।

75 वर्षीय पूज्यश्री ने अपने अमूल्य जीवन के 50 वर्ष परोपकार व मानव – उत्थान में व्यतीत कर दिए। ईसाई मिशनरियों द्वारा धर्मान्तरण कार्यों का प्रतिरोध करने में आसाराम बापूजी सबसे आगे हैं।

सुरेश चव्हानके – चेयरमैन सुदर्शन चैनल -“उनके सत्संग से प्रभावित होकर कितने करोड़ों साधकों ने सिगरेट , गुटका , शराब जैसे व्यसनों को त्याग कर ब्रह्मचर्य का मार्ग अपनाया है।परिणामतः विदेशी कम्पनियों को लाखों खरबों रूपैयों का नुकसान हुआ है। अतः विदेशी चैनेलों और इन कम्पनियों के लिए 1000 करोड़ रुपैये बापूजी के कुप्रचार में लगाना कौन सी बड़ी बात है ! “

20 अगस्त 2013 को छिंदवाड़ा गुरुकुल की एक छात्रा ने बापूजी पर छेड़खानी का घिनोना आरोप लगाया। उसका दावा था की बापूजी अपनी कुटिया में जबरन डेढ़ घंटे तक उसके शरीर पर हाथ फेरते रहे। हैरानी की बात है कि उसकी माँ बाहर ही बैठी थी पर उसने अपनी बेटी की चिल्लाने की आवाज़ नहीं सुनी ! घटना बताते हैं जोधपुर में 15.8.2013 की ,लड़की है शाहजहांपुर की और FIR दर्ज़ की गई 5 दिन बाद 20.8.2013 को रात के 2.15 पर नई दिल्ली के कमला नगर पुलिस थाने में।

28 फरवरी 2014 को जोधपुर पुलिस ने खुलासा किया है कि स्कूल प्रिंसिपल के पत्र के अनुसार लड़की नाबालिक नहीं है उसकी DOB है
6 अगस्त 1995 अतः POCSO ACT व अन्य धाराएँ बापू पर लागु ही नहीं होतीं तो फिर कैसा केस और कैसी सज़ा।

देखिये बिकाऊ मीडिया की झूठी ख़बरों व सच में कितना अंतर है :

MEDIA’S FAKE NEWS
TRUTH
Asaram Bapu Raped the Girl
26/8/13 DCP Lamba – “No evidence of Rape”
Media U Turn – In Girl’s FIR “No Allegation of Rape”
Then why was POCSO filed against Bapuji
After Bapuji’s Arrest Ahmedabad Ashram has been sealed
Ahmedabad Ashram was never sealed
Obscene Video Clips of Asaram found in Shiva’s Mobile
DCP Lamba –“ Groundless Fact – No Video Clips Found”
Asaram’s Wife & Daughter Provided him Girls for Pleasure
Allegation Baseless both Wife & Daughter were granted Bail
Bholanand – Children’s Skeletons buried in Jammu Ashram
14/11/13 Bholanand Arrested for offering Humungous Bribe to Vicky for fetching skeletons from Cremation Ground & Burying them in Jammu Ashram.
In Custody Bholanand told police ” 650crores has been given by Missionaries to defame Bapuji out of which 250crores have been given to Media for this purpose
Amrit Prajapati – Asaram takes Afeem which is grown in Ashram
No Afeem farming found in Ashram on Investigation
Asaram’s Vaid arrested
26/2/14 Paid Media Agent – Amrit Prajapati Arrested
Tantrik Activities carried out in Ahmedabad Ashram. Dead Bodies of Children Found
CBI Investigation Revealed Children were killed by Wild Animals. Supreme Court gave Clean Chit to Bapuji in Aug 2013
Room No 302 in Ahmedabad Ashram is “Abortion Room”
After Thorough Investigation Clean Chit given by National Mahila Ayog

आसाराम बापूजी : “आरोप २१०% बोगस है। मेरी सच्चाई मेरे साथ है “

क्या यह मुमकिन है की मात्र 22 साल की आयु में सब सुखों का त्याग करके जिस हस्ती ने आत्मा-साक्षात्कार जैसी परम स्थिति को पा लिया हो वे 75 साल की आयु में पोती समान लड़की को गलत नज़रों से देखेंगे ? नहीं !

कसाब जैसे आतंकवादी को जेल में बिरयानी परोसी जाती थी और बापू को दिवाली पर भी घर का भोजन खाने की अनुमति नहीं दी गयी।

तेजपाल को सरकारी दामाद की तरह जेल में रखा जा रहा है और एक 75 साल के संत को Trigeminal Neuralgia जैसी भयानक बीमारी का उपचार करवाने की भी अनुमति नहीं !

क्यों यह नाइंसाफी क्योंकि वो एक हिंदू संत हैं ?
http://www.youtube.com/watch?v=IeMIghdegMQ

ज़रा सोचिये जो मीडिया बापूजी को बदनाम करने के लिए झूठी निराधार कहानियां दिखा रहा है , क्या उसने बापूजी के पक्ष में हो रही अनगिनत रैलियों , धरनों , वैदिक यज्ञों एवं संत सम्मलेन को कभी दिखाया।

कहाँ गए अब मीडिया के तथ्यहीन आरोप शिवा , शिल्पी सब रिहा हो गए।

अफ़सोस की बात है – जिस देश का “राष्ट्रीय वाक्य ” ‪#‎SatyaMevJayate‬ है, उसी ने निरंतर सत्य का बलात्कार व सत्यस्वरूप संतों पर अत्याचार किया है !

महीनों से निस्वार्थ भाव से साधक ,बच्चे व बूढ़े रात दिन सुप्रचार में जुटे हुए हैं – इससे बढ़ा आसाराम बापूजी की निर्दोषता का क्या सबूत चाहिए कानून को ?

भगवान ने जब भी अवतार लिया -सनातन धर्म में लिया ! सनातन – जो कल था ,आज है और सदा रहेगा ! ऐसे धर्म व उसके संतों का अपमान क्यों ? सनातन धर्म कोई पायदान नहीं – जब चाहा रोंद दिया ! संस्कृति की नींव है ये ! इसे मिटाओगे तो खुद भी मिट जाओगे !!

Vande Maataram !Vande Sadgurushricharanam…..

Why Bapuji is (still) in jail?

Posted फ़रवरी 27, 2014 by HariOm Group
श्रेणी: Uncategorized

 

February 25, 2014 Asharam Bapu News

http://news.worldsnap.com/wp-content/uploads/2013/08/36853a40aed333513b11b7e1ec71dc86-e1377793338772-336x248.jpgBapuji the epitome of spirituality and the synonymous of Hindu Dharm for many the preacher of Sanatan Dharm is in jail today. Today, A great Hindu Saint is in Jail. This is just because of the malicious intentions of few groups of people who want to crush the great Sanatan Dharm beneath their feet. But it cannot be possible. Several in the past have tried and several in the present are trying but alas it will all be in vain. People will come and People will go but the Hindu religion stands erect and will remain infinitely.

Why is Bapuji in jail? There is a special law introduced POCSO( Prevention of Child against sexual offense) (it seems the law seems to have been specially drafted to victimize Bapuji). There are several people who are under the net of POCSO but they are still on their seats anchoring and bluffing. It appears that the POCSO should stand for :- People of Credibility Seriously Offended (POCSO) And various news channels who are ironically the so called voice of the people have lost their credibility and people are taking their news channels with a pinch of salt. Now this also makes one think that whether this law introduced as an Anti Hindu Law or Anti Bapuji Law? Yes, Because the first victim of this law is Sant Asaram Bapuji and the law has been made in such a way that the statement of the minor is sufficient enough to put the person behind the bars without going into the credentials of the case. There is complete evacuation of checks and balances to verify the veracity of the statement of the minor. Thus, it might be used maliciously to dent the image of any great person as the minor might be convinced to speak ill. It is a sarcastic situation in which Bapuji is in jail and for the same POCSO act where there are evident and clear proofs available behind the infamously famous news anchors but still the police is waiting to arrest them. It appears the whole system is inclined towards one angle. And the we claim that LAW is equal for all. Sighting the same statement the No one is Supreme before law , a greatly reverend Saint is arrested at 12 in the midnight not considering his age and the health status. A Saint whose mettle has been recognized by World Religious Parliament and who had represented India a century after Swami Vivekanand but our own country unfortunately is so pathetic to even provide food and the necessary health services. There is also a contrast in the POCSO law and the Adult. POCSO law considers the statement of minor(below 18 years) enough to frame a person without enquiring into the truth. 18 years has been taken as the apt age by various laws to go for Driving Licence, Bank Account, etc. and to be termed as Adult. 21 years for boys and 18 years for girls have been taken as the age to marry. That clearly shows that the laws somewhere considers the minor (below 18 years) are not mature enough or that they might engage in some act which they are unaware off. Who will vouch for the authenticity? Thus, POCSO which states that the statement of minor is enough is apparently conflicting with the very intention of the constitution. Either the lawmakers are smart enough to deliberately include this point or if they have left out this by mistake then you are not supposed to be the lawmakers. Also, It is our great country where a young Terrorist like Kasab is fed Biryani and given facilities in Jail for his anti HINDU Activity of killing people and creating terror and ironically a Saint of huge fan following who is 75 years old is suspected of his Saint Status and no minimum basic health facilities are provided. The Saint who has served the society for more than 40 years is paid off in this manner. It is a highly condemnable act of police force who are dummies or puppets following their masters blindly. There is a drastic increase in the toll of child abuses, but the government and the media seem to be taking huge interest in this case ignoring the genuine cases. This is just because they have VESTED INTEREST involved. Otherwise, everyday there are huge number of cases but why the media not showing. Why every alternate day the first page of the newspaper is hit with the news of Bapuji? It is very shameful for the media people that the word “PAID” has been prefixed before the media and some of the daily journals had to mention “NO PAID NEWS” on its first page. But as there is a saying that Action speak louder than words. Mentioning No Paid News doesn’t hit the nail when you are actually involved in paid news. Actually it is not the fault of these media houses. It is completely the fault of the regulating agency who is not able to regulate and has given huge freedom to malign or improvise the image of any person, group or company. This leads to the landing of Media Houses in a Dominating and Bargaining Position that they even resort to blackmailing.

So a question arises regarding DEMOCRACY. Are we really democratic? If Yes does it really work ?

democracy-rule by dictator

The meaning of DEMOCRACY has lost. Democracy- Of the people, For the people and By the People;

1.) The system in this country is not OF THE PEOPLE. If it would have been , it would have been a different scenario in which a bench on public demand would have been made as was in the case of Justice who was alleged of misbehaving with his apprentice. We would like to disown this system of partiality but the government has turned deaf ears to our voice. Is this Democracy.?

2.) The System is For THE PEOPLE. If it would have been , it would have tried to address the grievances of millions of followers of Bapuji. But unfortunately the government has framed law in such a manner which ignores millions of people and favors one minor, the allegations of which yet to be proven. Is this Democracy.?

3.) The System is BY THE PEOPLE:- Is it really so? If it would have been the case the truth would have been in place. But it is not by the Common People but it is by the people who have been empowered to misuse/use the law according to their terms. It is highly disheartening to learn that Asaram Bapuji is in JAIL. The Government is unable to see the millions of people unaffected by the dubious allegations placed that there has to be come credibility in the people following the great Saint. The Government is unable to take cognizance of the public welfare activities undertaken and the contribution towards social upliftment. This shows the crooked mentality of the people who are part of the government. As it is said that when the night is darkest , the dawn is nearest. Likewise the day will come when Bapuji will emerge out spotless and unaffected more refreshing and roaring like a lion to spread the message of spirituality and Contentment.

- See more at: http://asharambapunews.org/why-bapuji-is-still-in-jail/#sthash.v7oK7RIt.dpuf

Hari Om.

bapubhakton ki deshwaasiyon ko aawaaj….

Posted सितम्बर 9, 2013 by HariOm Group
श्रेणी: Uncategorized

Shri Ganesh Chaturthi 9/9/2013

बापुभक्तों की देशवासियों को आवाज ….. 

हरि ॐ

बापूजी करुणा के सागर  है…यदि हाथ में जल लेकर अभी संकल्प करेंगे तो सारे षड्यंत्रकारी नष्ट हो जाएँगे क्यों की संतत्व में वो शक्ति होती है…बापूजी  महापुरुष है..युगपुरुष है..

बापूजी पर लगे गंदे आक्षेप, आरोपो का खंडन करने के लिए अपना जन-आक्रोश प्रदर्शित करने के लिए सारे भक्त आज मछली की तरह तड़प रहे है..

Image

Image

यह जनता बता देना चाहती है प्रशासन को , केंद्र को की दुनिया की कोई ताकद हमारे दिलों से बापूजी को  जुदा नही कर सकती है…

हम करोड़ो लोग जानते है की हमारे बापूजी कैसे है..उन के दर्शन मात्र से काम क्रोध भाग जाता है..वासना मिट जाती है.. उन का सत्संग सुनते तो करोड़ो पति-पत्नी ब्रम्हचर्य व्रत लेते है, अध्यात्मिक उत्थान में एकदुसरे के सहयोगी बन जाते है..ये हमारा अनुभव है तो ऐसे पवित्र महापुरुष पर ऐसा घिनौना आरोप स्वप्ने में भी हम सच नही मानेंगे..

भगवान कृष्ण  द्वापर में आए थे इस पृथ्वी को दुष्टों से मुक्ति दिलाने के लिए, भगवान राम तो त्रेता में आए थे लेकिन आज के इस घनघोर कलियुग में बापूजी  भारतवासियों को और संपूर्ण विश्व के करोड़ो करोड़ो को दुखो से, यातनाओ से, रोगों से, कष्टों से, शोक से , आसक्तियों से, वासनाओ से,व्यसनो से मुक्ति दिला रहे है… ऐसे महान युगपुरुष का विडंबन अब नही सहेंगे हम…

अब कोई सपना ना देखे की ये संस्कृति मिटा दी जाएगी

जो भारत को मिटाना चाहेंगे वो जीभ काट ली जाएगी

जो भारत को घर समझेंगे उस से कुछ कहें नही होगा लेकिन अब बापू-द्रोही सहेन नही होगा..

सहेते सहेते हम सीमा पार कर आए है सब सहेने की..इसलिए अब ज़रूरत पड़ती है चिल्ला चिल्ला कर कहेने की…

कि भारत की धरती पर जिस को हमारे बापूजी से प्यार नही होगा उस को भारत में रहेने का अधिकार नही होगा!!!!

 

 

कौन है बापूजी?

बापूजी हमारी आस्था है…बापूजी हमारी आत्मा है..हमारे जीवन का सर्वस्व है बापूजी..हमारे जीवन का उजाला है बापूजी..हमारे जीवन की सुबह , हमारे जीवन की शाम है बापूजी..जलते हुए दीपक के लौ में जो रोशनी दृष्टिगोचर होती है उस रूप का नाम है बापूजी..

लाखो करोड़ो भक्तो को व्यसन से मुक्त करा देनेवाले  है बापूजी ..अंधेरे में घीरे आत्माओं को अध्यात्म का प्रकाश देनेवाले है बापूजी..नन्ही नन्ही आँखों को एक सुलभ, सुगम अध्यात्म भरा वातावरण देनेवाले है बापूजी..

टूटे परिवारों को जोड़ते है बापूजी..उजड़े दिलों को संवारते है बापूजी..अज्ञान का अंधकार मिटाते है बापूजी..भटके हुए को राह दिखाते है बापूजी..आत्महत्या करनेवालों को बचाते है बापूजी…

धर्म क्या है?- सिखाते है बापूजी, धर्मांतरणवालों को रोकते है बापूजी..गुटका-शराब-कबाब छुड़वाते है बापूजी..गौ माता की रक्षा करते है बापूजी..नारी का सन्मान सिखाते है बापूजी…माता पिता का पूजन कराते है बापूजी..जीवन जीने की कला सिखाते है बापूजी..

 

कैसे वर्णन किया जा सकता है शब्दो में की कौन है हमारे  बापूजी?…आँखों के रास्ते खून आँसू बनकर बाहर आना चाहता है की  ऐसे महान महापुरुष को युगपुरुष को भारत की पवित्र धरती पर  इतना कष्ट?

 

भारत का गौरव है बापूजी… भारतीय संस्कृति का स्तंभ है बापूजी…  इस घोर कलियुग में आज भारतीय संस्कृति की नीव है बापूजी… अटक से लेकर कटक तक-कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक भारतीय संस्कृति का अगर किसी ने दर्शन करवाया है तो वो है हमारे बापूजी…

 

बापूजी ने हमें क्या दिया?

बापूजी ने बताया की पत्थरों में भी भगवान है लेकिन उस को देखनेवाला भगवान हमारे हृदय के अंदर ही बैठा है…बापूजी ने बताया की तर्पण करने से हमारे पूर्वज कृतकृत्य हो जाएँगे वरना हम तो हमारे सनातन धर्म को भूल ही गये थे…  बच्चों के अनेको बार योगशिबीर कर के असंख्य बच्चों का जीवन उज्ज्वल कर दिया है बापूजी ने..युवानो को वासनाओ की गंदी नालियों में गिरने से बचाया है बापूजी ने… ध्यानयोगशिबीर का आयोजन कर के कितने कितने अंधियारी ज़िंदगियों को सँवारा है बापूजी ने..

उदारता करुणा से भरे हुए है बापूजी..

हमारे बापूजी ने बताया हमें की माता पिता के चरण आस्था और श्रध्दा का केंद्र होते है , प्रातः काल उठ कर अपने माता पिता के चरणों को वंदन करना..मात्र-पितृ पूजन दिवस मनाना सिखाया है बापूजी ने.. जनमदिन पर श्रध्दा से प्रेम दीप जलाना तो अंधेरे से उजियाले की तरफ चलेगा ये हमें किसी ने नही बताया था जो बापूजी ने बताया…शील की महिमा क्या होती है-सतीत्व क्या होता है ये हमें बापूजी ने बताया..घर परिवार में शांति और मेल बनाए रखना, किसी की निंदा नही करना ये बापूजी ने हमें सिखाया है… बापूजी आप तो करुणा के सागर है…

 

अगर अब भी देशवासी नही जागे तो क्या होगा?सब से बड़ा नुकसान ये होगा की इस देश में समर्थ रामदास नही होंगे तो शिवाजी महाराज कैसे मिलेंगे?भारत के गौरवशाली  संस्कृति को मिटाने की कोशिशे जो पिछले 1200 सालों में यशस्वी नही हुई है  वो इन 10 साल में होने की संभावना है.. यह मानवता का  सब से बड़ा नुकसान है..

रात दिन अहर्निश प्रवास करनेवाले बापूजी..अपने लिए केवल 4 घंटे निद्रा के लिए देनेवाले बापूजी..किस के लिए करते है इतना प्रवास,इतना आयोजन, इतना सत्संग कार्यक्रम?किस के लिए? जब कभी किसी को कुछ  दिया जाता है तो पहेले अपने आप को त्याग-अग्नि के हवाले करना पड़ता है..अपनी होली जलाओगे तभी किसी की दीवाली मानती है..अपने आप को आहूत कर दिया है बापूजी ने हमें ज्ञान और संस्कार देने के लिए..अपने संसार को,अपने  इच्छाओं को, अपनी कामनाओं को आहूत कर दिया है बापूजी ने हमारे लिए, भारतीय समाज के लिए, विश्व के लिए…

 

ऐसे पवित्र बापूजी जिन का सारा जीवन केवल लोगों के अध्यात्मिक उत्थान के लिए ही है -जिन्हे लोग प्यार से “लोकसंत बापूजी” कहेते है.. ऐसे महान राष्ट्रसंत पर पिछले 4 सालों से लगातार कुप्रचार और षडयंत्र किया जा रहा है…सभी आरोप बेबुनियाद सिध्द हुए…..फिर भी 75 वर्ष की आयु में इस महापुरुष को कॉंग्रेसी सरकार की पुलिसे रात को 12.30 बजे हिरासत में लेती है, उन से भयानक गुनहगार की तरह बर्ताव करती है..आज 9 दिन से उन्हे जोधपुर जैल में रखा गया है …ऐसे निर्मल निर्दोष साक्षात भगवत स्वरूप महात्मा की इतनी प्रताड़ना इस देश में हो रही है..बिका हुआ मीडिया अभी भी कीचड़ उछाल रहा है… दादाजी ने स्नेह से आशीर्वचन देने पर पोती ने बलात्कार का आरोप लगाने जैसा यह भद्दा षडयंत्र है … अगर आज हम इसे चुपचाप सहेते है तो कल हमारे नाती-पोते भी हमारे साथ यही करेंगे ….कोंग्रेसी सरकार हमें ऐसा ही तो बनाना चाहती है …. जागो जागो हे भारत माँ के दुलारों , हमारे प्यारे देशवासियों जागो ….

Image

Bapuji  karunaa ke saagar  hai…yadi hath mein jal lekar abhi sankalp karenge to sare shadyantrakari nasht ho jayenge kyon ki santatv mein vo shakti hoti hai…Bapuji  mahaapurush hai..yugpurush hai..

Bapuji par lage gande aakshep, aaropo ka khandan karane ke liye apanaa jan-aakrosh pradarshit karane ke liye saare bhakt aaj machhali ki tarah tadap rahe hai..

yah janataa bataa denaa chaahati hai prashaasan ko , kendr ko ki duniyaa ki koyi taakad hamaare dilo se Bapuji ko  judaa nahi kar sakati hai…

hum karodo log jaanate hai ki hamaare Bapuji kaise hai..un ke darshan matr se kaam krodh bhag jata hai..waasanaa mit jaati hai.. un ka satsang sunate to karodo pati-patni bramhchary vrat lete hai, adhyatmik uththan mein ekdusare ke sahayogi ban jaate hai..ye hamaaraa anubhav hai to aise pavitr Mahaapurush par aisa ghinauna aarop swapne mein bhi hum sach nahi maanenge..

bhagavaan krishn  dwaapar mein aaye the is prithvi ko dushton se mukti dilaane ke liye, Bhagavan Ram to treta mein aaye the lekin aaj ke is ghanghor kaliyug mein Bapuji  bhaaratwasiyon ko aur sampurn vishw ke karodo karodo ko dukho se, yaatanaao se, rogon se, kashton se, shoko se , aasaktiyon se, waasanaao se,vyasano se mukti dilaa rahe hai… Aise Mahaan Yugpurush ka vidamban ab nahi sahenge hum…

ab koyi sapanaa naa dekhe ki ye sanskruti mita di jaayegi

jo bhaarat ko mitaanaa chahenge vo jibh kaat li jaayegi

jo bhaarat ko ghar samajhenge us se kuchh kahen nahi hoga lekin ab Bapu-drohi sahen nahi hoga..

sahete sahete hum seema paar kar aaye hai sab sahene ki..isliye ab jarurat padati hai chillaa chillaa kar kahene ki…

ki bhaarat ki dharati par jis ko hamaare Bapuji se pyar nahi hoga us ko bhaarat mein rahene ka adhikaar nahi hogaa!!!!

 

 

Kaun hai Baapuji?

Baapuji hamaari aastha hai…Bapuji hamaari aatma hai..hamaare jeevan kaa sarvasw hai Bapuji..hamaare jeevan ka ujaalaa hai Bapuji..hamaare jeevan ki subah , hamaare jeevan ki shaam hai Baapuji..jalate huye dipak ke lau mein jo roshani drushtigochar hoti hai us roop ka naam hai Bapuji..

laakho karodo bhakto ko vyasan se mukt karaa denewaale  hai Baapuji ..andhere mein gheere aatmaaon mein adhyaatm kaa deepak jalaa denewaale hai Bapuji..nanhi nanhi aankhon ko ek sulabh, sugam adhyam bharaa vaataavaran denewaale hai Bapuji..

tute pariwaron ko jodate hai Bapuji..ujade dilon ko sawaarate hai Bapuji..agyan ka andhakar mitaate hai Bapuji..bhatake huye ko raah dikhaate hai Bapuji..aatmhatya karanewalon ko bachaate hai Bapuji…

dharm kya hai sikhate hai Bapuji,dharmaantaran walon ko rokate hai Bapuji..gutaka-sharaab-kabaab chhudawaate hai Bapuji..gau mata ki raksha karate hai Bapuji..nari ka sanmaan sikhaate hai Bapuji…mata pita ka pujan karaate hai Bapuji..jeevan jine ki kalaa sikhate hai Bapuji..

 

kaise varnan kiyaa jaa sakataa hai shabdo mein ki kaun hai hamaare  Bapuji?…aankhon ke raaste khun aansu banakar baahar aanaa chaahata hai ki aise mahaan Mahaapurush ko Yugpurush ko Bhaarat ki pavitr dharati par itanaa kasht?

 

bhaarat ka gaurav hai Bapuji… bhaaratiy sanskruti ka stambh hai Bapuji…  is ghor kaliyug mein aaj bhaaratiy sanskriti ki Neev hai Baapuji… atak se lekar katak tak-kashmir se lekar kanyakumaari tak bhaaratiy sanskriti ka agar kisi ne darshan karavaayaa hai to vo hai hamaare Baapuji…

 

Baapuji ne hamein kya diyaa?

Bapuji ne bataya ki paththaron mein bhi bhagavaan hai lekin us ko dekhanewala bhagavaan hamaare hruday ke andar hi baitha hai…Bapuji ne bataya ki tarpan karane se hamaare purvaj kritkrutya ho jaayenge varanaa hum to hamaare sanaatan dharm ko bhul hi gaye the…  bachchon ke aneko baar yogshibir kar ke asankhya bachchon ka jeevan ujjwal kar diya hai Bapuji ne..yuwano ko wasanaao ki gandi naliyon mein girane se bachaya hai Bapuji ne… dhyanyogshibir ka aayojan kar ke kitane kitane andhiyari jindagiyon ko sanwara hai Bapuji ne..

udaarataa karunaa se bhare huye Bapuji..

hamaare Bapuji ne bataya hamein ki mata pita ke charan aastha aur shradhda ka kendr hote hai , praatah kaal uth kar apane mata pita ke charanon ko vandan karanaa..matri-pitri pujan diwas manana sikhaya hai Bapuji ne.. janamdin par tu shradhdaa se prem dip jalana to andhere se ujiyaale ki taraf chalegaa ye hamein kisi ne nahi bataya thaa jo Bapuji ne bataya…sheel ki mahima kya hoti hai-satitv kya hota hai ye hamein bapuji ne bataya..ghar pariwar mein shanti aur mel banaye rakhanaa, kisi ki ninda nahi karanaa ye Bapuji ne hamein sikhaya hai… Bapuji aap to karunaa ke saagar hai…

 

 

agar ab bhi deshwasi nahi jaage to kya hoga?sab se badaa nuksaan ye hoga ki is desh mein samarth ramdas nahi honge to shivaji maharaj kaise milenge?bharat ke gauravshali  sanskruti ko mitaane ki koshishe jo pichhale 1200 saalon mein yashaswi nahi huyi hai  vo in 10 saal mein hone ki sambhavana hai.. yah maanavataa ka  sab se badaa nuksaan hai..

 

raat din aharnish pravaas karanewaale Bapuji..apane liye kewal 4 ghante nidra ke liye denewaale Bapuji..kis ke liye karate hai itanaa prawaas,itanaa aayojan, itana satsang karyakram?kis ke liye? jab kabhi kisi ko kuchh diya jata hai to pahele apane aap ko tyag-agni ke hawaale karanaa padataa hai..apani holi jalaaoge tabhi kisi ki diwaali manati hai..apane aap ko aahut kar diya hai Bapuji ne hamein gyan aur sanskar dene ke liye..apane sansar ko,apane  ichhaon ko, apani kaamanaaon ko aahut kar diya hai Bapuji ne hamaare liye, bharatiy samaaj ke liye, vishw ke liye… Aise  pavitr Bapuji jin ka sara jeevan kewal logon ke adhyatmik uththaan ke liye hi hai -jinhe log pyar se “loksant bapuji” kahete hai.. aise mahaan rashtrsant par pichhale 4 salon se lagaataar kuprachaar aur shadayantr kiya jaa rahaa hai…sabhi aarop bebuniyaad sidhd huye…..phir bhi 75 varsh ki aayu mein is mahaapurush ko kongresi sarakaar ki pulice raat ko 12.30 baje hiraasat mein leti hai,un se bhayaanak gunahgaar ki tarah bartaav karati hai..aaj 9 din se unhe jodhpur jail mein rakhaa gayaa hai …aise nirmal nirdosh saakshaat bhagavat swarup mahaatmaa ki itani pradaadanaa is desh mein ho rahi hai..bikaa huaa midiya abhi bhi kichad uchhaal rahaa hai… dadaji ne sneh se ashirvachan dene par poti ne balaatkaar ka aarop lagaane jaisa yah bhadda shadayantr hai..agar aaj ham ise chupchaap sahete hai to kal hamaare naati –pote bhi hamaare sath yahi karenge..kongresi sarakaar hamen aisaa hi to banaanaa chaahati hai…jago jago hey bhaarat maan ke dulaaron, hamaare pyaare deshwaasiyon jago…..

 

aise mahaan Yugpurush ko shadayantr se jhuthe aaropon mein phansaa kar jis prakaar  nestanaabut kiya jaa rahaa hai is ke virodh mein hum sampurn bhaarat mein shanti purn railly aur dharanaa pradarshan kar rahe hai.. 

isliye hey bhaarat maa ke pyaaro! aao.. aap bhi hamaare sath ho jaao.. 

 

Aise gangaajal se bhi adhik pavitr Bapuji jin ka sara jeevan kewal logon ke adhyatmik uththaan ke liye hi hai -jinhe log pyar se “loksant bapuji” kahete hai.. aise mahaan rashtrsant par pichhale 4 salon se lagaataar kuprachaar aur shadayantr kiya jaa rahaa hai…sabhi aarop bebuniyaad sidhd huye…..phir bhi 75 varsh ki aayu mein is mahaapurush ko kongresi sarakaar ki pulice raat ko 12.30 baje hiraasat mein leti hai,un se bhayaanak gunahgaar ki tarah bartaav karati hai..aaj 9 din se unhe jodhpur jail mein rakhaa gayaa hai …aise nirmal nirdosh saakshaat bhagavat swarup mahaatmaa ki itani pradaadanaa is desh mein ho rahi hai..bikaa huaa midiya abhi bhi kichad uchhaal rahaa hai… dadaji ne sneh se ashirvachan dene par poti ne balaatkaar ka aarop lagaane jaisa yah bhadda shadayantr hai..agar aaj ham ise chupchaap sahete hai to kal hamaare naati –pote bhi hamaare sath yahi karenge..kongresi sarakaar hamen aisaa hi to banaanaa chaahati hai…jago jago hey bhaarat maan ke dulaaron, hamaare pyaare deshwaasiyon jago…..

 

ठगों से सावधान

Posted जुलाई 4, 2013 by HariOm Group
श्रेणी: Uncategorized

 

- Pujya Sant Shri Ashram Bapuji Chandigarh 14th June 2013

परमात्मा अभी तक मिला नहीं…. इतनी देर कर रहे हैं| वो ही परमात्मा दुर्लभ लग रहा है, वो ही परमात्मा परे दिख रहा है, वो ही परमात्मा पराया लग रहा है । इसी का नाम है माया । जो हो नहीं और दिखा दे उसको बोलते हैं माया । अघटना पट्यसी यस्यसा माया, न रथा न रथसंयोगा । वहां रथ भी नहीं है, रथ का संयोग भी नहीं है, रेल भी नहीं है, रेलगाड़ी की पटरियां भी नहीं हैं फिर भी स्वप्ने में रेलगाड़ी और पटरियां और पैसेंजर सब बन जाता है । जगह भी नहीं है आपके घर में पटरियां बिछाने की, कैसे रेल गाड़ी चला लेते हैं ? ये माया है । अजमेर का दूध मीठा पी ले, आबू की रबड़ी खा ले, मुंबई नु हलवो ठण्डो, भरूच की सींग खा ले भाई, डाकोर के भजिये खा ले, हरिद्वार की हर की पौड़ी में नहा ले, प्रसाद ले ले, सब बना देता है ये आत्मदेव । कैसा आत्म सामर्थ्य है ? हीता नाम की नाड़ी है उसमें वो चैतन्य का स्फुरना स्वप्ने की दुनिया बना देता है ।

कबीरजी की युक्ति
  एक सुबह कबीरजी बहुत रोये, बहुत रोये| लोग आते थे सुबह-सुबह कीर्तन करते हुए कबीरजी के दर्शन करने । आज तो महाराज जी रो रहे हैं चुप ही नहीं हो रहे हैं, खूब हाथाजोड़ी की कि महाराज आप जैसे इतने महान संत, आपके संपर्क में हमारी जिंदगियां सवर गयीं । हम निर्दुख हो गए| आपको कौन से दुःख ने, कौन से व्यक्ति ने सताया है ? महाराज आप इतना रो रहे हैं । बोले- उसका उपाय कोई कर नहीं सकता । अरे महाराज ! हम करेंगे, बताओ आखिर क्या हुआ ? बहुत हाथाजोड़ी की, तो कबीरजी तो समझ के रो रहे थे, अभिनय कर रहे थे, अभिनय वाले को दुःख नहीं होता । हाय सीते ! सीते ! रामजी को दुःख थोड़े होता है । हाय भाई लक्ष्मण ! वो कबीर जी तो ऐसा रोये कि चुप कराने वाले ही रोने लग गए । आखिर हाथाजोड़ी की| महाराज! आपका रोना हम नहीं सह सकते, कुछ भी होगा हम आपके दुःख का अंत कर देंगे, बताओ । बोले- नहीं कर सकते हो । ‘एक बार बता तो दो’ । बड़ी लम्बी चली खींच-तान, कबीरजी ने देखा कि बराबर वक्त है बताने का । रोते-रोते कबीरजी ने बोला कि मैं रात को चिड़िया बन गया था, चिड़िया, मैं चिड़िया हूँ । मुझे रात को ‘मैं चिड़िया हूँ’ ऐसा लगा| बोले- महाराज! वो रात को लगा तो स्वप्ने में लगा| बोले- हाँ । अरे! बोले स्वप्ना झूठा होता है । कबीरजी ने कहा “ पागल हुए हो, स्वप्ना झूठा कैसे होता है ? चिड़िया बना उस समय भी दिखा और अभी भी याद है और ये जब चिड़िया बना था तब ये याद नहीं था कि मैं काशी में हूँ और मैं कबीर हूँ । चिड़िया के वक्त ‘मैं कबीर हूँ’ ये याद नहीं रहा था लेकिन कबीर के समय याद है कि मैं चिड़िया भी बना था । तो वो झूठा कैसे हुआ ? जब स्वप्ना झूठा है तो ये सच्चा कैसे हुआ ? अब ये सच्चा है तो स्वप्ना झूठा कैसे हुआ?” । लोगों की बुद्धि में ऐसा ज्ञान का प्रकाश धकेल दिया कि उस समय तो वो सच्चा लग रहा था और अब नहीं है लेकिन उसकी स्मृति तो है । लेकिन स्वप्ने में जो चीजें दिखती हैं वो उस समय सच्ची लगती हैं और जाग्रत की स्मृति भी तो नहीं होती । तो जो दिखता है वो सच्चा है तो स्वप्ने के वक्त स्वप्ना सच्चा है और जाग्रत में भी उसकी स्मृति रहती है और स्वप्ने के वक्त जाग्रत जगत की स्मृति नहीं रहती| ख़याल करो तो दोनों का करो न… इस जगत का भी| मेरे भाई ने यह कह दिया, इसने यह कह दिया, उसने वो कर दिया, जो स्वप्ने में भी नहीं रहता है, गहरी नींद में भी नहीं रहता उस जगत को तो सच्चा मानते रहे हो और स्वप्ने को झूठा मान रहे हो । मैं कैसे मानूँ ? तुम कैसे दुःख मिटाओगे ? कबीरजी की क्या कृपा रही होगी, लीला ! आखिर लोगों को सोचने के लिए मजबूर कर दिया, ऐसे धीरे-धीरे संस्कार डाल के पता चल गया लोगों को कि –
उमा कहूँ मैं अनुभव अपना सत्य हरिभजन जगत सब स्वप्ना । 
  हरि, जो हर वक्त है, हमेशा है, हर देश में है, हर काल में है, हर वस्तु में है, हर परिस्थिति में है वह हरि, चैतन्य । स्वप्ना आया चला गया लेकिन उसका द्रष्टा हरि है, गहरी नींद आई चली गयी लेकिन उसको जानने वाला वही का वही, जिसने स्वप्ना जाना है उसीने गहरी नींद जानी है और उसीने कल के जाग्रत को देखा है । जाग्रत नहीं है, स्वप्ने के समय जाग्रत नहीं है, गहरी नींद के समय स्वप्ना नहीं है और समाधी में तीनों नहीं हैं लेकिन समाधी को जानने वाला है, स्वप्ने को जानने वाला है, जाग्रत को जानने वाला है, नींद को जानने वाला है, वो कौन है ? वो ही तो आत्मदेव है । कितना साफ़ सुथरा, वो ही तो आत्मा है, चैतन्य है, परमेश्वर है, वही चित्रगुप्त है, गुप्त रूप से हमारे संस्कारों का चित्र उसी में आता है । चित्र, जैसे फोटोग्राफी के नही.. ऐसे संस्कार आ रहे हैं । 
 

शंकराचार्य के चार ख़ास शिष्य थे- सुरेश्वराचार्य, पद्मपादाचार्य, हस्तामलकाचार्य और तोटकाचार्य| तो तीन तो बड़े विद्वान् थे । और चौथा तो शंकराचार्य को साक्षात् ब्रह्म रूप मानता था| बस! गुरु की सेवा…, वो बर्तन माँझे, कपड़े धोये, ये करे, वो करे । मूर्ती के भगवान से तो ये जाग्रत भगवान हैं गुरु मेरे… खूब तत्परता से सेवा करे । तो पढाई लिखाई में इतना ध्यान जावे नहीं| तो तीन चेले आये.. बोले- गुरूजी पाठ शुरू करो । बोले- उसको आने दो तोटकाचार्य को| बोले- गुरूजी! वो तो क्या है ! वो तो बर्तन माँझे, झाड़ू लगाये और गुरु ब्रह्म रूप हैं, गुरु चेतन रूप हैं, गुरू आनंद रूप हैं, गुरु ब्रह्मा विष्णु हैं, वो ही रट लगायी है उसने तो । शंकराचार्य को हुआ कि इन मूर्खों को हम विद्वान हैं… ये अहं है । जिसको मान बहुत मिलता है न… उसको थोड़ा-सा अपमान भी चुभ जाता है| फिर वापिस मन मुखता के घोड़े पे चढ़ के जा के गड्डे में गुलाटे खाता है । तो तीनों की मनमुखता थी । अरे ! बोले तोटक क्या कर रहा है ? दौड़ता हुआ आया…, जल्दी आ ! तो हाथ में बर्तन था और राख थी, गुरूजी का बर्तन माँझ रहा था । बोले- ये जो पढ़ने वाले हैं… वो श्लोक बोलता आ और जो पढ़ चुके हैं वो भी बोलो । तोटकाचार्य के हाथ में तो झूठा बर्तन था और राख थी, जीव्हा पर गुरु कृपा की सरस्वती बैठ गयीं । 
प्रातः स्मरामि हृदय संस्फुरात्म तत्वं, सत्चित्त सुखं परम गति तुरीयं । 
यद् जाग्रत स्वप्न सुषुप्ति वेतिनित्यं, तदब्रह्म निष्कलहं न च भूत संगम ।।
  प्रातः काल हम वो सुमिरन करते हैं, आपकी पत्नी नींद में से नहीं जगा सकती, पति नींद में से नहीं जगा सकता, चौकीदार नींद में से नहीं जगा सकता, नींद में वो हरि तुम्हारा स्फुरना करता है, मन को जगाता है, तब आप जागते हैं । प्रातः स्मरामि हृदय संस्फुरात्म तत्वं, मेरे हृदय में जो आत्म तत्व संस्फुरना करवा देता है मन को, मैं उसका सुमिरन करता हूँ । जो प्राणों को भीतर खींच के लाता है फिर बाहर फेंकता है और बाहर गया हुआ प्राण नहीं आवे तो मर जावे आदमी लेकिन नीयति के अनुसार जितने प्राण लेने हैं, उतना खींचता है । ये कैसा समर्थ है ? स्टोव प्राइमस होता है न…पंप मार के प्राइमस जलाते हैं, स्टोव कंपनी का मालिक भी आ के खड़ा हो जाए, हाथाजोड़ी करे लेकिन स्टोव में थोड़ा-सा सुराख हो तो नहीं जलेगा । टायर में एक या आधा इंच का सुराख हो तो गाड़ी नहीं चलेगी लेकिन यहाँ तो नौ-नौ सुराख हैं और श्वास जाता आता है फिर भी गाड़ी चल रही है । ये कौन सा जादू है ! ये कैसा समर्थ आत्मदेव है ! प्रातः स्मरामि हृदय संस्फुरात्म तत्वं, सत्चित्त सुखं । वो सत है, चेतन है और सुखरूप है । सत्चित्त सुखं परम गति तुरीयं, परम गति है । यद् जाग्रत स्वप्न सुषुप्ति वेतिनित्यं । जिसकी सत्ता से जाग्रत आता है चला जाता है, स्वप्ना आता है चला जाता है, सुषुप्ति आती है चली जाती है लेकिन वो जाता नहीं है । तदब्रह्म निष्कलहं, वो निष्कलंक है । न च भूत संगम, भूतों में तो परिवर्तन होता है, भूतों में तो नाश है, कलंकित हैं भूत, शरीर कितना भी किसी का हो कुछ न कुछ गड़बड़, मन किसी का भी हो कुछ न कुछ गड़बड़, बुद्धि किसी की भी हो कुछ न कुछ गड़बड़, पद कितना भी किसी का हो कुछ न कुछ गड़बड़, ये 2जी घोटाला तो कुछ भी नहीं, कई गड़बडें होती हैं । रावण की गड़बड़ देखो, हिरण्यकश्यपु की गड़बड़ देखो, श्रीकृष्ण के यदुवंशियों की गड़बड़ देखो, ये तो भूतों में तो ऐसे ही है लेकिन भूतों के आधार में कोई गड़बड़ नहीं है । मैं उसीका सुमिरन करता हूँ । प्रातः स्मरामि हृदय संस्फुरात्म तत्वं, जो हृदय में स्फुरित होता है उस तत्व का स्मरण । यद् जाग्रत स्वप्न सुषुप्ति वेतिनित्यं, जाग्रत आता है, स्वप्ना आता है, सुषुप्ति आती है लेकिन वो ज्यों का त्यों रहता है ।
 

ऐसे ज्यों के त्यों रहने वाले के तरफ नज़र नहीं है और जो आता है जाता है, उसीको बोलते हैं कि गुरूजी चिड़िया तो झूठी थी, आप कबीरजी हैं, सच्चे हैं । कबीर सच्चे कैसे हैं ? स्वप्ने में कबीर दिखे नहीं और जाग्रत में तो चिड़िया भी याद आती है और आकृति भी याद आती है । लोगों की बुद्धि चकरा जाए, ऐसा ठोस द्रष्टान्त दे दिया । देखते हैं बाजी नू, बाजीगर नू कोई नहीं देखता । वो बाज़ीगर जो चैतन्य परमेश्वर है जो हमारा हितैषी है, कभी मरता नहीं, बिछड़ता नहीं, बेवफाई नहीं करता और नित्य अवस्थायें बदलती है फिर भी ज्यों का त्यों । वो बात नहीं चुभती और कोई बात ही नहीं है न जाने कैसी कल्पना करके, बात चुभा के खोपड़ी खराब कर रहे हैं, नास्तिक जैसा व्यवहार कर रहे हैं । किसी को कोई कह दे कि बापू ने याद किया तो दौड़ा-दौड़ा आता है लेकिन कुछ ऐसे महान पुरुष हैं कि बापू बोलते हैं कि आना बात करना, आवे ही नहीं, फुर्सत ही नहीं । 

कोप करे करतार तब देवे साधक को मनमुखता और जगत व्यवहार । जगत की तोल-मोल ये वो । 
तो तीन तो बड़े होशियार थे लेकिन श्रद्धालु तोटक के आगे तीनों नतमस्तक हो गए, तोटक तो बन गया तोटकाचार्य । बाकी के तीन भी फिर संभल गए, चारों शिष्यों को चार शंकराचार्य की गद्दियाँ मिलीं, जोशीमठ ये वो सब । नारायण हरि हरि ॐ हरि ॐ ॐ ॐ 
 

एक तो दुसंकल्प से बचें, दुष्ट विचारों से, दुष्ट संकल्पों से बचें । दुष्ट विचार, दुष्ट संकल्प से बचेंगे तो दुष्कर्म से भी बच जायेंगे । सुख के लिए दुष्विचार, दुष्कर्म करता रहेगा तो पतन होगा । दो दिन पहले एक शास्त्र में आया कि जो छुप के भी दुष्कर्म करेगा, छुप के भी कुछ ऐसे वैसे कर्म करता है तो उससे विक्षेप पैदा होगा, कर्मों की गति से । एक बड़ा प्रसिद्ध आदमी था उसको खाने का शौक था, नॉन वेजीटेरियन, झींगा, झींगा जब मारते हैं न… तो तड़प-तड़प के मरता है, खाने वाला तो मजा लेता है उस समय लेकिन किसी के दुःख के निमित्त आपको सुख मिलता है तो आपको बड़ा दुःख भोगने के लिए प्रकृति झोंक देती है । वो बड़ा आदमी अभी बिचारा तड़पता है । झींगा तो २ मिनट तड़पा होगा वो तो सज्जन कई वर्ष हो गए तड़प रहे हैं । बड़े प्रसिद्ध व्यक्ति थे । 
गहनों कर्मणा गतिः । 
 

अभी आप यहाँ चंदीगढ़ आश्रम में बैठे हैं, सत्संग सुन रहे हैं । भिवानी हरियाणा में साधवी रेखा और साधवी डॉली के सत्संग चल रहे हैं । १५०० लोग पाँच मिनट से ये सत्संग सुन रहे हैं । तो हरियाणा में भिवानी आश्रम साधकों ने बनाया है, एकांत के लिए भी अच्छा है और वैसे भी बड़ा सुन्दर है । उधर जाते हैं तो लगता है कि दुबारा जल्दी आयेंगे लेकिन ऐसे ऐसे आ जाते हैं । आज भी इधर लाइन लग गयी थी, हमारे को तारीख दो, हमारे को तारीख दो, हमारे को तारीख दो, जा नहीं पाते हैं लेकिन भिवानी वालों को अब रेखा साधवी के सत्संग के निमित्त २-३ बातें पक्की कर लेनी चाहिए । 
 

एक तो बुरे विचार आयें तो जैसे बच्चे के हाथ से कौआ कुछ छीनता है या कोई डरावनी चीज आ जाती है तो माँ माँ.. पिताजी! बाबाजी! चिल्लाता है । ऐसे ही बुरे विचार आयें तो हरि हरि हरि ॐॐॐ नारायण नारायण नारायण । बुरे विचारों की ताना-बूनी से जो चुभने की कल्पना हो जाती उससे आदमी बच जाता है । नहीं तो इसने ऐसा सोचा, ये सोचा, ऐसा कुछ होता नहीं है जितना जब दुष्कर्म दुःख देने को होता है न… तो अपना ही मन ऐसे-ऐसे बहाव, ऐसी-ऐसी कल्पना बना के दुखी होता रहता है । मेरे को ऐसा कहा था ! मैं थोड़े ऐसा हूँ ! मेरे लिए ऐसा सोचता है, वैसा सोचता है, उसने सोचा कि नहीं सोचा लेकिन तू अपने लिए आग जला कर खुद ही तप के मर रहा है, परेशान हो रहा है । मेरी सासू ने ऐसा सोचा होगा, बहु ने ऐसा किया, फलाने ने ऐसा किया, मैंने बहुत दुःख देखे, इसने ऐसा किया, अब वो जब देखे तब देखे.. याद करके परेशान हो रहे हैं । 
जब कोप करे करतार तब देवे दुष्विचार और दुर्मति ।
  उस समय पुकारें हे भगवान ! हे हरि ! हे प्रभु ! हे नारायण ! जाट हो तो फिर अपना भगवान ढूंढ ले । जो भी हो.. हरियाणी हो, चाहें पंजाबी हो, चाहें गुजराती हो । नमो अरिहन्ता नाम वाला नमो अरिहन्ता नाम बोल दे, बैठे हैं नमो अरिहन्ता वाले भी । जैसे भी हो भगवान के सभी नाम भगवान जानते हैं कि मेरे को पुकार रहे हैं, दुष्विचारों से रक्षा होगी । दुष्विचार, दुष्कर्म, दुष्चिन्तन से जब दुःख आता है तब रोते हैं, “ मैं दुखी हूँ “ रोना उस समय चाहिए जब दुष्विचार हुए । चोर पकड़ा गया मार पड़ती है तो रोता है, जिस समय चोरी करने जा रहा था उसी समय रो कि मैं मुसीबत आने वाले कर्म कर रहा हूँ । जब परेशानी आ रही है, बीमारी आ रही है, तब परेशान हो रहे हैं लेकिन दूसरों को सता के जब मज़ा ले रहे थे.. उस समय रोना चाहिए । दुष्कर्म करते समय आदमी सावधान हो जाए, दुष्विचार, दुष्कर्म करते समय, तो एक काम करना है, दुष्कर्म और दुष्विचार करते समय सावधान हो जायें, भगवान को पुकारें और लम्बा श्वास लें, छोड़ें । कीर्तन करें हरि ॐॐॐ राम राम राम शिव शिव शंभू शंभू हरि हे प्रभुजी ! हे मेरेजी ! हरि ॐ हास्य प्रयोग कर के हसे या रोयें ओहोहो ! मर गया रे ! ठाकुर जी बचा लो । दुष्कर्म, दुष्विचार से बचें । दूसरा सद्विचार को पकड़ रखें, सत्कर्मों को । एक अकाट्य सिद्धांत है – विफल वे ही लोग होते हैं जो दूसरों को दुःख देकर भी अपना मज़े से रहना चाहते हैं । जो दूसरों को प्रेम से भोजन कराता है उसकी भक्ति बन जाती है लेकिन दूसरों को भोजन कराने में जिसको मुसीबत पड़ती है । अब देने वाला तो दाता, है तो गुरूजी का द्वार लेकिन दिल फटे खिलाने वाले का तो उसको फिर नालत भी पड़ती है । और जो प्रेम से खिलाता है चाहें रूखा-सूखा खिलाये, अपनत्व करके उसके लिए लोगों के हृदय में सद्भाव हो जाता है, सद्संकल्प हो जाता है । तो मधुर व्यवहार पुस्तक पढ़ें और किसी को भी खिलाये-पिलाये ले-दे तो वाणी मधुर बोलें । हमारे वासु भाई हैं, ब्रह्मचर्य में तो पक्के हैं लेकिन जिव्हा उनकी ऐसी है कि मछुआरे भी बोलेंगे कि वासु से तो हम अच्छे हैं । वासु वक्ता से तो हम अच्छे हैं । 

वाणी ऐसी बोलिए जो मनवा शीतल होए । औरन को शीतल करे आपहुं शीतल होए ।।
 सासु के लिए, बहु के लिए, पड़ोसी के लिए, किसी के लिए भी ऐसा शब्द न बोलो की उसको चुभे । आज का तुम्हारा चुभने वाला शब्द घूम फिर के तुम्हे चुभायेगा । उसने जो किया वो जाने हम अपना मधुर व्यवहार करें । जैसा आप दोगे वैसा ही पाओगे । ये हरामी है, वो हरामी है, वो हरामी है तू एक नंबर का हरामी है इसलिए तेरे को हरामी दिख रहे हैं । नारायण नहीं दिख रहे, वो दुष्ट है तो अपने अन्दर की दुष्टता ही दुष्ट देख रही है । कैसा भी व्यक्ति बाहर से हो लेकिन भीतर से, गहराई से देखो तो नारायण है । 
वासुदेव सर्वं इति स महात्मा सु दुर्लभः ।
गीज़र हरामी है पानी गर्म करता है, फ्रीज़ बिचारा अच्छा है । अरे ! न गीज़र हरामी है न फ्रीज़ अच्छा है, दोनों का कनेक्शन देखो तो एक लाइट है, एक ही सत्ता है, एक ही ईश्वर की सत्ता है । किसी का राजसी मन, किसी का तामसी मन, किसी का सात्विक मन और सदा एक जैसा मन नहीं रहता । किसी के लिए गाँठ न बाँधो । 

उन्नति के ३ सोपान
एक तो दुष्ट विचारों से, दुष्ट संकल्पों से बचें उस समय लम्बा श्वास लें, भगवान को पुकारें, जप करें, जगह बदलें । 
दूसरा अच्छे विचारों को दृढ़ता से पालें
तीसरी बात है कि भगवान का नाम उच्चारण करके निर्विचार नारायण में शांत होता जाये । 
आप सामर्थ्य भी चाहते हैं और सुख भी चाहते हैं तो सुख और सामर्थ्य दोनों मिलेगा । सुख और सामर्थ्य का मूल तो वो ही है परमेश्वर । जिससे जाग्रत आ के चली जाती है, स्वप्ना आ के चला जाता है, गहरी नींद आ के चली जाती है.. उसको बोलते हैं तुरियातीत । तो माँझ रहा है बर्तन लेकिन भाव गुरु का है, गुरु मेरे ब्रह्मा हैं, गुरु मेरे विष्णु हैं, गुरु मेरे शिव हैं, बोलते तो सब हैं लेकिन गुरु बुलावें तो जायेंगे नहीं । महिमा अपरंपार है तो फिर से बोलता हूँ, भिवानी वालों को और आपको अच्छे-बुरे विचार आते हैं, अच्छे विचारों को सहयोग दो, बुरे विचारों के लिए भगवान ये आ रहा है । हे प्रभुजी ! हे दाता ! हे हरि ! बुरे विचारों का प्रभाव कम हो जायेगा । फिर अच्छे विचार में दृढ़ता लाओ, तो अच्छे विचारों के लिए दृढ़ संकल्प| जीवन में कोई न कोई व्रत या संकल्प होना चाहिए । जो किसी की सेवा करने से कतराता है उसके लिए सफल होना संभव ही नहीं है । बिना सेवा के न भौतिक उन्नति होगी, न आध्यात्मिक, बिना सेवाभाव के भौतिक उन्नति संभव ही नहीं है । वे ही लोग विफल होते है जो अपने सुख के लिए किसी की परवाह नहीं करते । और फिर संकल्प पूछ रहा है, बापू को चिठ्ठि किसने लिखी ? चिठ्ठि किसने लिखी ? बापूजी को क्यों बताया ? मेरे को बता देते, ऐसे लोग कपटी, दुर्बुद्धि होते हैं । 
 

अपनी गलती कोई बताता है तो उसका शुक्रगुज़ार करना चाहिए, अपनी गलती खुद निकालें नहीं निकालते तो कोई तुम्हारे हितैषी को बताता है तो उसके जा के चरण छुओ, उसका स्वागत करो । जो अपनी गलती स्वीकारता नहीं और बताने वाले पर नाराज़ होता है समझो उसके ऊपर बड़ी मुसीबतें आएँगी । घोड़े, गधे की योनियों में डंडे मार के उस के कर्म की गति ठीक होती है । दुष्कर्म करे नहीं, दुष्विचार करे नहीं और उसके पीछे दूसरों से दुश्मनी मोल न ले । मेरी बात किसने कह दी ? कह दी तो सच-मुच में कह दी है तो उसका शुक्रगुज़ार कर, झूठ-मूठ में कह दी तो सहनशक्ति बढ़ा । मेरे लिए कुछ का कुछ बोलते थे, मैंने कभी किसी से वैर नहीं लिया, किसी को मैंने अपने हृदय से बुरा नहीं माना । क्या-क्या करते थे ? मैं तो जूनियर था, बड़े सीनियर थे तो सब भगाने में लगे । चलो उनकी जो मर्ज़ी, मेरे और गुरूजी के बीच में खाई खड़ी कर देते और कभी कभी हम गुरूजी की डांट के पात्र भी बन जाते थे| फिर शांति से समय चला जाता और गुरूजी को पता चलता । अरे ! तूने तो ये किया नहीं.. फिर तेरे लिए बोला तो तू कुछ बोला नहीं? मैंने कहा कोई बात नहीं । तो गुरूजी को तो मेरे लिए और अहोभाव हुआ, जो सज्जनता का व्यवहार करता है न… घूम-फिर के उसकी सज्जनता ही उसकी रक्षा करती है । और जो छल कपट और चालाकी करता है कि साईं को किसने बताया ? वो तो बड़ा बेईमान है । तेरे हितैषी को तेरी गड़बड़ कोई बताता है चाहें मालपाणी बताएं.. चाहें कोई रूपयापानी बताये तो तू उसके चरण धो के पी, हरामी ! क्यों जलता भुनता है ? क्यों ज़रा-ज़रा बात में भड़क जाता है ? बहुत मान मिलता है तो ज़रा सा उन्नीस-बीस हुआ न हुआ, भडकू भैया ! तो वो आदमी उज्जवल भविष्य का सपना नहीं देख सकता है । उज्जवल भविष्य तो उसका जो तोटकाचार्य की नाई, ए तोटक ! क्या कर रहा है ? भागा भागा आया । हाथ में राख और झूठा बर्तन… गुरूजी ने बुलाया है तो अब बर्तन रख के, हाथ धोयें तो देर लगेगी, दौड़ा-दौड़ा आया, इसको बोलते हैं शिष्य । और गुरूजी हैं, बोले- भाई आना और फुर्सत है कोई काम भी नहीं है, झक-मार रहा है अकेला कमरे में, गुरूजी के पास नहीं गया । मनमुखता, शास्त्र विरुद्ध विचार को महत्व न दें और शास्त्र अनुरूप विचार को छोड़ें नहीं, तो हो गया और तीसरा फिर नि:संकल्प हो जायें । कैसा भी तुच्छ से तुच्छ व्यक्ति महान बन जायेगा और नहीं तो वाह-वाही का भक्त हो गया, सुविधा का भक्त हो गया तो अच्छे से अच्छा व्यक्ति भी तुच्छ बन जायेगा । इसलिए भगवान की ये वाणी पक्की याद रखो – आत्मने आत्मनो बंधू| मनुष्य अपने आप का मित्र है जो मन को, इन्द्रियों को संयत करके सत्मार्ग में लगाता है और अपने आप का वो दुश्मन है जो मन-इन्द्रियों के पीछे-पीछे चलता है । 
आत्मने आत्मनो बंधू, आत्मे रिपुरात्मनः । बंधू रात्मनात्मातस्य येनात्मेवमनाजितः अनात्मनस्तु शत्रु से वरतेतात्मे शत्रु  ।। 
  मनुष्य अपने आप का बंधू है अगर वो अंतरात्मा के तरफ सच्चाई से चलता है । अगर छल कपट की युक्ति करके मनमुख होता है तो अपने आप का महा दुश्मन है । फिर कोई पूछता भी नहीं है, वो नाली में पड़े रहते हैं ऑऽऽ ऑऽऽ ऑऽऽ  कभी तो मनुष्य भी बने थे । अब क्या ? अभी क्यों रोते हो ? मनुष्य बन कर जब दुष्कर्म को सपोर्ट दिया, दुष्कर्म छुपाये, दुष्कर्म को पोषित किया उस समय रोना था । अभी क्या रोता है ? अब तू रोयेगा तो सुनवाई भी क्या होगी ? कई कुत्ते रोते रहते हैं ऑऽऽ ऑऽऽ ऑऽऽ दूसरा कुत्ता फिर आ के काटता है । बड़ा प्रसिद्ध आदमी… झींगे तड़पाते हो उस समय रो लो… अब काहे को रोते हो ? और रोते हो तो कौन पूछता है ? जिनको चैम्पियन दी थी वो भी नहीं आ रहे हैं तुम्हारे पास । जय रामजी की ।
गहनों कर्मणा गतिः । 
  अपने आप के मित्र बनो, अपने आप के शत्रु मत बनो । ये शरीर, इन्द्रियाँ और छल-कपट, ये अनात्मा है, दिखता है, हम अनात्मा को महत्व न दें । तो साधन थोड़ा बहुत करते हैं, असाधन ज्यादा करते हैं इसलिए फिर गिर जाते हैं । अंतरात्मा जब नाराज़ होता है न… तो बुद्धि मारी जाती है, निर्णय ऐसे ही होते हैं फिर । कुछ भी हो जाए खटका-वटका तो गुरूजी ऐसा हो रहा है, मेरे को ऐसा हो रहा है, आप ही बचाओ| मैं जैसा तैसा हूँ आपका हूँ, सच्चाई से बोलें तो तर जावें । अरे ! बोल ऐसा किया न किया, बस । बीस-बीस आंसू निकालेंगे| इसको घड़ियाली आंसू बोलते हैं, मगर आंसू, इससे कुछ नहीं चलता । मैंने कहा जा, तो देवशंकर गए, गए तो फिर एक्सीडेंट में गए| आखिर पागल होकर हॉस्पिटल में मर के चले गए, बिचारे । आदमी तो अच्छा था लेकिन अपनी गलती स्वीकारना नहीं, मेरी गलती किसने बताई ? उसको ठीक करना है । सासु गलती बताये, चाहें बहु बताये, चाहें दुश्मन बताये, गलती बताता है तो सच-मुच में है तो उसको धन्यवाद दो और अपनी गलती के प्रति सजाग रहो । ये उन्नति कराएगा और गलती बताने वाले को ही तुम दोषी मानो तो आप गलती को पोषित करते हो तो आप तबाही का रास्ता गहरा कर रहे हैं । तो तीन बातें याद रखो । 
सुमति कुमति सबके उर रहीं । 
 

अच्छे-बुरे विचार सबके पास होते हैं, आते हैं, अच्छे विचारों को महत्व दो और बुरे विचारों के लिए भगवान को पुकारो और लंबे श्वास लो । बुरे विचार का प्रभाव कट जाएगा और अच्छे विचार, अच्छे कर्म करने से चित्त में भगवद्प्राप्ति की तीव्रता आएगी । और भगवद्प्राप्ति की तीव्रता आई तो बस हाजरा-हजूर है भगवान दूर नहीं है, दुर्लभ भी नहीं है, परे भी नहीं है, पराये भी नहीं है । जब भी दुःख आता है तो समझ लेना कि मन की बेवकूफी है| बिना बेवकूफी के दुःख हो ही नहीं सकता, बिना बेवकूफी के अशांती हो ही नहीं सकती, बिना बेवकूफी के कपट कर ही नहीं सकता आदमी । जो तुम्हारे हितैषी है.. वो भी तुम्हारे लिए लगता है कि हमारे पे विश्वास नहीं है, अरे भोंदू ! विश्वास नहीं है ऐसा नहीं है, तुम्हारी भलाई के लिए तुम्हारे हितैषी क्या-क्या दूर का जानते हैं, देखते हैं.. तुमको पता नहीं है । अब माँ है मसल-मसल के नहलाती है, डांटती है, मारती है, ए सिपाही ! पकड़ो इसको, वो माँ तुम्हारा क्या हित चाहती है ! तुमको पता नहीं है । जैसे मूर्ख बच्चा माँ को दुश्मन गिनता है लेकिन वो थोड़ी देर के लिए फिर माँ को चिपकता है ऐसे ही हमारा दुष्ट मन हितैषी का सुना-अनसुना करता है और अहितैषी की बात में आ जाता है । आज का ये नया जनरेशन, माता-पिता, शास्त्र की बात को सुनी-अनसुनी किया और मस्का मारने वालों की बातों में आ के बड़े-बड़े घर के, अच्छे-अच्छे घर के बच्चे-बच्चियाँ बिचारे गिर जाते है । इसमें सज्जनता चाहिए, मैं तो भिवानी समिति को और वहां जो सत्संग कर रहे हैं, करवा रहे हैं, सुन रहे हैं, सुना रहे हैं सबको शाबाश देता हूँ, धन्यवाद देता हूँ । कैसे भी करके भगवद्कथा में जो समय जाता है उतनी देर तो आप झूठ भी नहीं बोल रहे हो, उतनी देर आप गुस्सा भी नहीं कर रहे हो, उतनी देर कामी, क्रोधी, लोभी नहीं, मोही नहीं, उतनी देर भगवान के लिए बैठे हैं । इतना समय तो सफल हुआ और कोई बात भी पकड़ ली भिवानी वालों ने अथवा चंदीगढ़ वालों ने अथवा अहमदावाद वालों ने, तो अच्छी बात पकड़ ली तो फिर कितना भविष्य उज्जवल हो जायेगा ! ऐसे लोगों को सभी को धन्यवाद देता हूँ, शिवजी की तरफ से –
धन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः ।
धन्या च वसुधा देवि यत्रस्याद् गुरुभक्तता ।।
  हे पार्वती !  उनकी माता धन्य हैं, उनके पिता धन्य हैं, उनका कुल और गोत्र धन्य है जिनके हृदय में गुरुभक्ति हैं । हरि ॐ ऽऽ हरि ॐ ऽऽ हरि ॐ ऽऽ हरि ॐ ऽऽ ॐॐॐ….हरि ॐॐॐ प्रभु ॐॐॐ भिवानी वाले ॐॐॐ दिल्ली वाले ॐॐॐ…हरि ॐॐॐॐ…प्रभुजी ॐॐ प्यारेजी ॐॐ आनंद ॐॐॐ माधुर्य ॐॐ ( देव-मानव हास्य प्रयोग ) ॐॐ 
द्वेष तबाही करता है, राग-द्वेष तबाही का कारण है । प्रभु को स्नेह करो ( कीर्तन ) सबका मंगल, सबका भला ॐॐ सबके रूप में वो ही सबका स्वामी आत्मदेव, राग-द्वेष बुद्धि खराब कर देता है, छल-कपट अन्धकार में भविष्य ले जाता है । सरल स्वभाव नमन कर लाई, यदा लाभ संतोष सदाही । बेड़ा पार कर देता है । ॐॐॐ…प्रभु तेरी जय हो, आनंददेवा तेरी जय हो, मीरा भई प्रेम दीवानी, घुंघरू बाँध मीरा मेवाड़ में नाची, गौरांग बंगाल में झूमे, छोडो राग-द्वेष, ईश्वर में मस्त रहो, कीर्तन में मस्त रहो, सत्कर्म में मस्त रहो आनंद है ।

वैर को प्रीत में बदलने की कला
  जिससे भी दुश्मनी है मन ही मन उसको प्रदक्षिणा करो । कट्टर दुश्मन हो उसकी गहराई में मेरा परम हितैषी बैठा है । बाहर से दुश्मन दिखता है उसका मन, बुद्धि लेकिन अन्दर मेरा हितैषी है । मन ही मन प्रदक्षिणा करो । हे हितैषी परमात्मा ! समझो मोहन मेरा पक्का दुश्मन है, मेरे को जान से मार डालने की सोचता है । मुझे क्या करना चाहिए ? मैं भी उसको जान से मारू तो मेरे में और कुत्ते में फर्क नहीं है । मैं क्या करूँ ? मोहन को सुबह-सुबह प्रदक्षिणा करो । मोहन बाहर से तो तुम मेरे पे नाराज़ हो लेकिन भीतर से तो तुम वास्तव में मोहन हो, मोहनरूप हो, परमात्मरूप हो । ये हमारा द्वेष आपको हरामी देख रहा है, हमारा मन हरामी है इसलिए आपको हरामी देख रहा है । आप तो चैतन्य हैं, आत्मदेव है, ब्रह्मस्वरुप हैं, मोहन तो आपके लिए ब्रह्मस्वरुप हो जायेगा, आप भी ब्रह्मस्वरुप बन जायेंगे । अपना बेटा है, कहना नहीं मानता, पति है, पत्नी है, छोरा है, कोई कहना नहीं मानता, छोड़ दो ईश्वर के हवाले, मेरा बेटा नहीं है, ईश्वर तेरा बेटा है । अपनी ममता हटा दोगे तो उसका भला हो जाएगा । आप उसका भला सोच के कुछ कह दो तो ठीक है लेकिन दुखी होकर, उसका बिगाड़ कर उसको आप सुधार नहीं सकते । ऐसे ऐसे गुरु देखे कि बारह साल तक चेले से बात नहीं करते और चेले ने क्या-क्या मेहनत करी गुरु को रिझाने के लिए और बारह साल के बाद गुरु रीझे । तो बाहर से गुरु का कठोर व्यवहार भी अन्दर से उसके भले के लिए होता है । बुल्लाशाह के गुरु ने बारह साल तक बुल्ले से बात नहीं किया, आने नहीं दिया, जब भी आये तो धक्के मार के निकाल देते थे, फिर भी बुल्ला डटा रहा । तो संत बुल्लाशाह बन गए, बढ़िया हो गए । 
दुर्जन की करुणा बुरी भलो साईं को त्रास । 
 

इधर तो त्रास करता भी नहीं कभी, नहीं तो गुरुद्वार पे कैसा-कैसा होता है, शिष्य गुरु को मनाते हैं यहाँ तो उल्टी गंगा बह रही है । गुरु ही शिष्यों को दिन-रात मना रहे हैं, ये लो प्रसाद लो, ये खाओ, ये करो वो करो । यहाँ तो उल्टी गंगा बह रही है हमारे यहाँ पर, भगवान से पंगा लेने का फायदा, तू मिल जा तो मैं तुझे सस्ता कर दूँगा, भगवान को तो सौदा अच्छा लगा लेकिन मैं सस्ता करते करते मैं ही सस्ता हो गया । किसी को चाहिए नहीं बापू को ही सस्ता बना दिया । जब चाहें चलो । कई महीने गुरु के आश्रम में पड़े रहते थे तब कहीं गुरूजी पूछते थे । कहाँ से आये ? फिर आज्ञा दें तब पूछने का होता था| तुम तो आये और बस ये हो गया, ये हो गया, ये कर दो, वो कर दो, तुम चाहें एकांत के लिए आये लेकिन हम आयें तो तुम्हें नोचें बस । हमारा ये प्रॉब्लम है, ये समस्या है, ये है, इनता गुरु ने अपने को सस्ता बना दिया कि गला भी बैठ जाए.. फिर भी मौज है । अपना उद्देश्य ऊँचा बना लो बस, ऊँचा उद्देश्य आपको ऊँचे सुख में स्थित कर देगा, बीच का उद्देश्य बीच में भटकाएगा और उद्देश्यहीन व्यक्ति तो जब जैसा आया चल पड़ेगा । वो तो फिर कीट पतंग की योनी जैसा हुआ, जहाँ बत्ती जली पतंगिया आ गए, जल के मरते हैं, दुखी हो के परेशान होते हैं । जैसा मन में आया.. चल मेरे भैया!!! न कोई भविष्य का विचार, न वर्तमान का कर्तव्य, न गुरु के साथ की वफादारी, बस जो आया बस, अपने मन का विचार सर्वोपरि है । मैंने ये सोचा, मैं ये समझा, मैं ये समझा, काला मुँह हुआ तेरा फिर तो, मैंने ऐसा समझा तो बुद्धि मारी गयी है । अपनी अक्ल न हो तो फिर कहीं शास्त्र की और अक्ल वाले गुरु की बात पर ध्यान देना चाहिए । अपनी अक्ल नहीं है और हितैषी की बात मानना नहीं है, हितैषी बुलाये तो भी नहीं जाना है, वाह भई वाह ! धन्य हो ! 
तो एक पक्की बात कि बुरे विचारों को, मनमुखता को उखाड़ के फेंको, अच्छे विचारों को अविचल विश्वास से पालो और फिर विचार जहाँ से उत्पन्न हो कर शांत हो जाते हैं उस परमात्मा में पहुँच जाओ बस । तीन स्टेप हैं खाली । नारायण हरि हरि ॐ हरि ।
 

जीवन तो सुखमय है, रसमय है लेकिन अपनी गड़बड़ों से जीवन ज़हरी बन जाता है, नहीं तो आनंद ही आनंद है । डायोजनिस ऐसे आनंद में लेटे थे, पता चला कि सिकंदर आ रहा है । वो जान-बुझ के ऐसी सकरी गली में पैर पसार के लेट गए । मंत्री ने कहा- महान सिकंदर आ रहे हैं, पैर फैला कर रास्ता बंद करके सोये हो । बोले- कौन है महान ? इधर भेजो उसको| मंत्री को लगा कि गज़ब का आदमी है । सिकंदर को कहा कि डायोजनिस नाम के एक होलीमैन हैं, संत आदमी हैं । तो आया था तमतमाता हुआ कि मेरा रास्ता रोकने वाला कौन है ? महान सिकंदर का, लेकिन नज़दीक आया और डायोजनिस के सामने देखा तो बड़ा प्रसन्न, बड़ा सहज, उसकी सहजता और प्रसन्नता, जैसे बच्चा सहज होता है, प्यारा लगता है न…ऐसे डायोजनिस को देख के बड़ा अच्छा लगा । 
सिकंदर बोला, “ आपके पास तो कोई सत्ता नहीं है, कोई सेना नहीं है, हीरे जवाहरात मोती नहीं हैं फिर भी ऐसे सिकंदर से भी ज्यादा प्रसन्न तुम कैसे हो ? आप कौन हो ? “
डायोजनिस बोले, “ तू कौन है ?”
“ मैं महान सिकंदर विश्व विजयी होने के लिए निकला हूँ|”
डायोजनिस ने टोंट मारते हुए पूछा, “ विश्व विजय ! बाहर विजय होता है कि भीतर होता है ! अपने बुरे विचारों पर विजय होती है, बुरे संकल्पों और कर्मों पर विजय होती है, वो विश्व विजय होता है, बाहर कोई विश्व विजय आज तक किसी ने किया है क्या ?? ये कैसी पागलपन की बात कर रहे हो ! जब भी आदमी विजयी होता है तो भीतर होता है, बाहर तो उसका परिणाम होता है खाली । पराजित भी भीतर से होता है आदमी, विजयी भी भीतर से होता है, बाहर से विश्व विजय किसकी हुई आज तक!” सिकंदर सोचने को मजबूर हो गया, बोले- बात तो ठीक कहते हो । 
“ तुम इतने खुश कैसे ?”
“ बोले- बस भीतर से विश्व विजयी हो जाओ । इच्छा पूर्ती में तो पराधीनता है, परिश्रम है और इच्छा पूर्ती करते करते ज़िन्दगी पूरी हो जाती है, इच्छाएँ बनती रहती हैं लेकिन इच्छा की निवृत्ति में विश्व विजय है । डिजायर लेस हो जाओ और इच्छा रहित पुरुष को जो शांति और सुख मिलता है वो चक्रवर्ती सम्राट भी उसके आगे भीखमंगा है|”
बोले, “ बात तो तुम्हारी ठीक है, मुझे भी ऐसी शांति चाहिए, ऐसा विजय चाहिए|”
डायोजनिस बोले, “ है, जगह है बैठ जाओ । पैर पसार के लेट जाओ, छोडो सबको जाओ । न उनसे तुम बंधो न उनको तुम बाँधो|”
बोले, “ नहीं, अभी एक बार विश्व विजय करके फिर आऊंगा|”
बोले, “ फिर कैसे आओगे ? विश्व विजय होना ही नहीं है और फिर वापस आना ही नहीं है । जो अभी करना है कर लो|” 
बोले, “ बात तो तुम्हारी ठीक है लेकिन अभी जरा विश्व विजय करके आऊँ|”
बोले, “ सिकंदर नहीं लौटोगे वापस|” वो नहीं लौटा रास्ते में ही मर गया । इस पर विजय, इस पर विजय, वो हरामी है.. उसको ठीक करो । अरे ! अपने को ठीक कर न..बबलू । ज़रा-ज़रा बात में कैसे भड़क जाते हैं, ज़रा-ज़रा बात में कैसे पलायन हो जाते हैं, ज़रा-ज़रा बात में कैसे खोपड़ी उल्टी हो जाती है !! उसपे विजय पाओ । नहीं पाते तो पुकारो अथवा कोई हितैषी है उसके आगे दिल खोल के बात करो, वो नहीं करना है, तो जाओ फिर देखो क्या होता है ? जिस रास्ते जा रहे हो तो देखो क्या होता है फिर ? जो अपने हितैषी का फायदा नहीं ले सकता फिर दूसरे किसका फायदा लेगा ! जो मात-पिता की कृपा का, गुरु की कृपा का फायदा नहीं ले सकता है फिर तो वो ही हैं लोफर काम, क्रोध, लोभ, मोह, कपट, बेईमानी, ये वो, लाहपर्वाही, ये सब तुम्हे उलझा देंगे । फिर वापिस वापिस जन्मोगे, वापिस वापिस मरोगे, वापिस वापिस रोओगे, वापिस वापिस भागोगे, वापिस वापिस जागोगे, वापिस ही वापिस । बुद्ध भगवान कहा करते थे- तुमने वापिस कितने जन्म लिए.. सभी जन्मों की हड्डियाँ इकट्टी करें तो बड़े पहाड़ को भी नन्हा बना दे, सभी जन्मों के रुदन के आसू इकट्टे करें तो बड़ा सरोवर भी छोटा हो जाएगा । इसलिए बुरे संकल्पों से बचें, इच्छापूर्ति के सुख की दासता से बचें । इच्छा निवृत्ति में लगो । सुख लो मत सुख बांटो, मान लो मत मान बांटो । वो ही व्यक्ति विफल होते हैं और वे ही व्यक्ति अभागे होते हैं जो दूसरे के दुःख का विचार किये बिना, दूसरे को दुखी करके भी सुखी होने में लगते हैं । चाहें झींगे को दुखी करो, चाहें मछलियों को दुखी करो, चाहें गरीबों को दुखी करो, दुःख देकर कोई सुख लेता है बड़े दुःख के लिए प्रकृति उसको घसीटती है और दुःख सहकर भी दूसरे के दुःख मिटाता है वो तो दुःखहारी हरि के साथ एकाकार हो जाता है, इतना ही गणित है । सुख सुविधा का भोगी मत बनो, उपयोग करो लेकिन दूसरे के सुख-सुविधा बढाने में तत्पर रहो, सेवा खोज लो, कमरा बंद करके घुस के बैठने में कुछ नहीं मिलेगा । एक था भोपाली भेजा था हमने हिम्मतनगर के आश्रम में, देखा कि बापू अन्दर रहते हैं वो अन्दर कमरे में योग वशिष्ठ पढ़ा… फिर बोलता है मेरे को साक्षात्कार हो गया । मैंने कहा ये छोड़ बेफकूफी की बातें हैं, माना ही नहीं| मेरे को तो साक्षात्कार हो गया, चाहें खाने को मिले न मिले जैसे भी, बड़ी-बड़ी बातें करने लगा, बाद में पता चला कि अपने मन से साक्षात्कार मान लिया था, मेरी बेवकूफी थी । अब सुधरा है थोड़ा, मन के चुंगुल में नहीं आना चाहिए । 

ठगों से सावधान !
  एक ऐसा ग्रुप चल पड़ा कि बापूजी ने कहा है कि बेटे १०८ व्यक्तियों को साक्षात्कार कराना है, लेकिन अब १०८ से भी ज्यादा २१६, ३२४ लोगों को खास-खास और मेरी जो भी आश्रम और संस्थाएं हैं वो उन्ही व्यक्तियों को दूँगा । किसी के गर्भ से कलंकी अवतार पैदा होने वाला है, बापू ने ऐसा कहा है, बापूजी ये फलाने साहब हैं आप इनको भी ज़रा परिचय देना । ऐसा मोबाइल पकड़ के हाथ में यूँ घुमाया और उसका जो कलंकी अवतार पैदा करने वाली लवरी है वो परदे के पीछे बैठी है । ‘वो नाम शांतिलाल मोहनलाल पटेल, ये मेरे खास शिष्य हैं और ये जो कह रहे हैं कि कलंकी अवतार होने वाला है, ये सच-मुच होगा’, मैं आशाराम बापू हूँ । यूँ किया और दिखा दिया मोबाइल, देखो बापू ने एस.एम.एस किया है । मैं कभी एस.एम.एस किसी को करना चाहूँ तो नहीं कर सकता हूँ, मैं जानता ही नहीं । ऐसे करके लोगों को गुमराह कर देते हैं फिर उनसे मथ्था टिकवाते हैं, अभी कलंकी अवतार तो आया नहीं है, लेकिन उसके लिए गोद भरने के लिए दक्षिणा मांग रहे हैं । ऐसा-ऐसा स्टंट कर रहे हैं कि कई अच्छे अच्छे लोग ठगे जायें । मेरे तक बात आई तो मैंने ज़रा ज़ाहिर में कह दिया, तो उनका थोड़ा भांडा फूट गया लेकिन फिर भी नए सिरे से चालू किया कि देखो बापूजी ने कहा है कि ये तुम्हारी परीक्षा थी, मेरे बच्चे तुम परीक्षा में पास हो गए । अब नया शुरू कर दिया, जो कच्चे-कच्चे थे वो बिखर गए पक्के-पक्के रह गए । मध्य प्रदेश विदीशा में वो चल रहा है धटिंग, पहले छिन्दवाड़ा में चला था फिर भोपाल में चला फिर दिल्ली तक हुआ । है तो उसकी गर्लफ्रेंड और बोलता है बापूजी की आज्ञा है इसे कलंकी अवतार होने वाला है । अब गर्लफ्रेंड के द्वारा मैं कलंकी अवतार तुम्हारे को कराऊंगा ये तो मैं करना चाहूँ तो नहीं कर सकता, काहे को धोखा करते हो लोगों के साथ ! लेकिन जहाँ लोभी हैं वहां ठग भी हैं, चलो १०-२० हज़ार दिया.. अब अपने को साक्षात्कार भी हो जायेगा, बापू के आश्रम के हम ख़ास बन जायेंगे, वेटिंग लिस्ट में नाम लिखवा रहे हैं । जैसे चंद्रमा पर ज़मीन मिल गयी है और लोग यहाँ अमेरिका में बैठे-बैठे चंद्रलोक की ज़मीन का दस्तावेज़ कर रहे हैं, अब तुम्हारा बाप पहुंचेगा वहां, अभी ज़मीन बिक रही है । ऐसे ही कलंकी अवतार होने वाला है उसके कुछ ग्रुप बन गए हैं, एक मेन ठग है और दूसरी उसकी गर्लफ्रेंड है, ऐसी साजिश करते हैं और बाकि के उसके चमचे हैं, चल पड़ा है । लेकिन मज़े की बात है कि मैं बोल देता हूँ ज़ाहिर में न… तो सारा धडाक-धूम । ऐसे ही कोई देशी घी बापू की गौशाला का है… मेरी गौशाला का इतना घी होता ही नहीं कि बाज़ार में बिके, बिकता होगा तो दस-पाँच-पच्चीस किलो.. बाकि किसी की गौशाला का लाते हैं, समिति वाले देते हैं फिर देखते हैं कि उसमें क्या पता क्या है, तो फिर मैं बंद करवा देता हूँ । सही होता है तो भई ले जाओ भले, गाय के घी की महिमा तो मैं भी करता हूँ । लेकिन गाय के घी के नाम पर बटर-ऑइल चल पड़ता है और भी क्या-क्या ८०% फलाना । मेरे को पसंद नहीं है मेरे नाम से ठगी या किसी के नाम से कोई ठगे तो मैं तुरंत बम-धड़ाका मार देता हूँ । अब विदीशा में चल पड़ा है.. पहले छिन्दवाड़ा में चला था, भोपाल में चला था.. फिर दिल्ली में वो आई थी धतिंग, ऑपरेशन करके ठीक कर दिया । वो टीम थोड़ी देर अंडरग्राउंड हो गई| फिर वो जगी कि बापूजी आपने जो परीक्षा ली है यहाँ फलाने भाई हैं उनको आप अपना आशीर्वाद दो । ‘ हाँ, मैं आशाराम बापू हूँ, परीक्षा ली और मेरे बच्चे पास हुए, कलंकी अवतार होगा’ । ए हरामी ! मैं काहे को बोलूँ, कलंकी अवतार ! कौन-सा तेरा बाप कलंक किया है और सारे आश्रमों को कलंकी अवतार संभालेगा और अभी जो कलंकी अवतार के मेम्बर बनेंगे वो उनके साक्षात्कार के पात्र होंगे । क्या-क्या और भी कुछ बकते रहते हैं लेकिन ये सब बंडलबाज़ी है दूसरों को ठगने की है| बापू के नाम लोग बिचारे तन-मन-धन अर्पण करने को न्योछावर हो जाते हैं क्योकि कुछ फायदे भी होते हैं । अब वहां गए हम सोलन.. तो सोलन समिति का एक मेम्बर बीमार पड़ गया था कोमा में चला गया था, शिमला में एडमिट था । बापूजी! बापूजी! कहीं जांच करवाई सवा लाख रुपया खर्चा हो गया कुछ पता ही नहीं चल रहा है । एकाएक हट जाओ ! हट जाओ ! हट जाओ ! वो पेशेंट चिल्लाने लगा बापूजी आ रहे हैं, सब हट गए| उसको आपका दर्शन हुआ, बापूजी वो आपके सामने अभी लाये हैं, उस आदमी ने बोला कि ऐसा हुआ । अब ऐसे-ऐसे फायदे होते हैं भगवान की लीला से तो फिर बापूजी के लिए तो लोग बिचारे कुर्बान हो जायेंगे । फिर ऐसे ठग भी बापूजी का एस.एम.एस. आया, बापूजी ने मेरे को ख़ास कहा है, ये बापूजी का ख़ास है, ऐसी ठग विद्या भी चल पड़ी है, ऐसे ठगों से सावधान रहना । ये बापूजी का ख़ास है, बापूजी का एस.एम.एस. आया, मैं एस.एम.एस. करना जानता ही नहीं । कभी किया ही नहीं, एक बार भी मोबाइल फ़ोन पर मैंने एस.एम.एस तो क्या, एस.एम.एस का एस.एम. भी नहीं लिखा है । मैं सच्चाई से बोलता हूँ तो बीच में तो मैंने भड़ाका किया थोड़ा बंद हो गया, फिर नए सिरे से बापूजी का एस.एम.एस चालू हो गया है । मध्यप्रदेश, उसमें कई ऐसे बेवकूफ लोग जुड़ गए हैं, अपना जो ऋषि था न.. निर्माण विभाग का संचालक वो भी उसमें भाग गया जुड़ गया, दूसरे भी कई । वो डॉक्टर है न.. अश्विनी डॉक्टर हिमाचल के उनको भी फसा लिया था, अभी हैं कि नहीं, वो पहले के धड़ाके से निकल आये बाहर । आप बच गए नहीं तो आप जैसों को भी.. ऐसी-ऐसी बातें करता, कलजुग है तौबा-तौबा !! फिर भी मौज में रहो भगवान सत्य के पक्षधर हैं । सत्य को आँच नहीं, झूठ को पैर नहीं । अभी बोलूँगा वो टुकड़ी वाले फिर आठ दिन अंडरग्राउंड हो जायेंगे, अभी जो बोल रहा हूँ न… आठ दिन फिर चुप हो जायेंगे अंडरग्राउंड हो जायेंगे । फिर नया तुक्का चालू करेंगे ।
 

ऐसे ही एक महाराज बड़े, मेरे को तो उसके प्रति प्रसन्नता हुई कि इस उम्र में ऐसा त्यागी तपस्वी, बड़े प्रसन्न । मैंने कहा- आपको, हाँ तो बोले वो ही है सब एक का एक है| बात ऐसी करे साक्षात्कार  हो गया है । तो मैंने कहा- आपको साक्षात्कार गुरूजी ने कराया, कहाँ पर हुआ ?  बोले मणिमहेश्वर में । कहाँ है मणिमहेश्वर ? बोले पठानकोट की तरफ रास्ता जाता है.. उसने एड्रेस बताई, मैंने जांच करवाई । मणिमहेश्वर १२००० फूट की ऊंचाई पर है तो वहां शिवजी मणि दिखाते हैं, लोगों का मनोरथ पूरा हो जाता है, बहुत लोग जाते हैं । अभी तो फलानी जगह से हेलीकाप्टर वाला ले जाता है ६ मिनट में उधर पहुँचा देता है । पहाड़ी पे इतना हज़ार फीट ऊपर जाओ.. फिर ऊँची पहाड़ी पर ६००० दे दो हेलीकाप्टर वाले को, ले जाएगा । तो मैंने जांच करवाई.. वो हेलीकाप्टर वाला तो लुधियाना का था, बापूजी आ रहे हैं, उसने बोला- बापूजी आप ही का हेलीकाप्टर है । मैंने कहा ठीक है, शाबाश है, तो हम तो ६००० की डिस्टेंस पे क्यों जाएँ ! हम तो पठानकोट से ही गए । २०००० लग जायें, वो तो फ्री में ही दे रहा है तो हम तो पहुँचे वहां रात रहे, तो १२००० फूट ऊंचाई पर है वहां कोहरा-कोहरा रहता है तो कभी कबार कोहरा आगे-पीछे जाता है तो एक चमचमाता मणि दिखाई देता है । बं बं बं बं बं बं भोले जय शंकर, सब जो तम्बू तान के बैठे होते हैं या जो यात्री होते हैं जैसे बद्रीनाथ, केदारनाथ में वो बोलते हैं । ऐसे ही वहां यात्रियों के लिए छोटे-मोटे बनाये हैं सराए-वराए ये वो, बद्री-केदार जितनी भीड़ तो नहीं होती लेकिन शुरू हो गयी भीड़.. बं बं बं । फिर कहीं गौरी कुंड बना दिया कहीं.. शिवजी यहाँ आये थे वो बना दिया वहां के पंडों ने अपना तीर्थ का निर्माण कर लिया । अब बारह हज़ार फूट पर तो वहां ऑक्सीजन की कमी है, कई लोग बीमार हो जाते हैं, न्यूमोनिया हो जाता है, कई बिचारे जाते हैं जिन्दे और लाश उतरती है । हेलीकाप्टर में ऐसे ही अधमुए ले आते हैं, वो हेलीकाप्टर वाले ने ज़ाहिर कर दिया कि आशाराम बापू खुद भगवान मणिमहेश्वर के विषय में लोगों को ज्ञान देंगे, समझायेंगे । उसकी तो हेलीकाप्टर की ग्राहकी बढ़ गयी, मेरे को तो फ्री कर दिया लेकिन दूसरे ग्राहक जो कुछ फसे होंगे । मैंने देखा और लौटा बापूजी कैसा लगा ? मैंने कहा साक्षात् शिवजी भी आ जाएँ तो भी आत्मज्ञान के सत्संग के बिना साक्षात्कार नहीं होता । शिवजी के यहाँ रहने वाले लोग भी कई बार गड़बड़ करते हुए सुने गए हैं| पार्वती को उठा कर पुलाव बना दिया शिवजी के भक्त-भक्तानियों ने । अब शिवजी यहाँ मणि दिखाते हैं और साक्षात्कार हो जाये अथवा ये हो जाये, मणि-वणी कुछ नहीं है पूँछ वाला तारा है, कलजुग में दिखता है, पूँछ वाला तारा दूसरे तारों से थोड़ा नीचा होता है । तो कोहरे में कभी-कभी कोहरा हट गया तो पूँछ वाला तारा दिखता है और ये बोलते हैं भगवान शिवजी मणि दिखा रहे हैं । शिवजी खुद आ के खड़े हो जाएं तो भी बोलेंगे प्रचेताओं जाओ.. नारदजी का सत्संग सुनो । तो मैंने तो हवा निकाल दी, तो हमारे समिति वाले जो पैसे इकट्टे करके वहां भंडारा करते थे, महिना-महिना पन्द्रह दिन जाते रहते थे, वो सब बच गए लेकिन दूसरे लोग तो अभी भी रगड़े जा रहे हैं । ऐसे ही कई तीर्थ आमदनी का साधन करने के लिए बड़ा पीर है, ये पुराने हनुमानजी हैं । 
 

मुरारी बापू को किसी पुजारी ने कहा कि महाराज आप तो भगवान हनुमानजी को पूजते हैं, हनुमानजी आपके इष्ट हैं, दर्शन करने नहीं आये । बोले- हमारे निवास के पास में हनुमानजी भगवान के दर्शन कर के ही मैं गया कथा में । अरे ! बोले वो तो बूढ़े हनुमान जी हैं, वो क्या करेंगे ? हमारे यहाँ नया मंदिर है जवान हनुमानजी.. हाँ तो वो तुम्हारी इच्छा पूरी करेंगे, बूढ़ा आदमी क्या करेगा ? मुरारी बापू जैसों को भी पुजारी लोग… कई लोग बोलते हैं ये प्राचीन हनुमान हैं, ये इनका तो नया है मेरा पुराना मंदिर है, प्राचीन हैं हनुमानजी सच्चे हैं, वो तो अब के हैं, और अब वाले बोलते हैं अरे ! वो तो बूढ़े हनुमान हैं हमारे जवान हैं । धर्म के नाम पर ठग लो मुकुट, ठगी करने में भी कोई देर नहीं लगती । तो मेरे नाम पर क्या का क्या चलता रहेगा, सब लोग सावधान रहना ! बापूजी ये चाहते हैं, ये मेम्बर बन जाओ, ये कर लो, वो कर लो । कई लोग बीमा कंपनी वाले भी समिति में घुस जाते हैं फिर परिचय करके बीमा के एजेंट अपनी रोकड़ी करते हैं । माला पहना दी गुरूजी के आगे, बस हो गया नाम फिर विश्वास करके बीमा कंपनी वाले बीमा का काम करते हैं और लोग अपना और सेल्समैन का काम करते हैं । ऐसे ही मंदिरों में कई कुछ, तीर्थों में कई कुछ, बड़ा कलजुग विचित्र है ! फिर भी इमानदारी से भगवान को चाहोगे तो अंतरात्मा में आवाज़ आएगा कि ये तो हम को ठग रहे हैं, चल भैया, उसकी बातों में नहीं आओगे । बाकि तो जगत को ठीक-ठाक करके फिर भजन करोगे तो भजन नहीं कर सकोगे, जगत में ही उलझ जाओगे । इसलिए आप तो भजन का रस लेते जाओ और ऐसी वैसी बातों से तुम भी बचते जाओ और कभी मौका मिले तो मैं तो खुले आम बोल देता हूँ । संत आशाराम आश्रम आगरा में नकली घी बिकता है । अरे ! बोले- बापू! आपके आश्रम में, आश्रम मेरा है तो क्या है ? नकली है तो नकली है । फिर वहां के लोग घबराए बोले- बापूजी! हम तो गाय का घी देते हैं । बोले- गाय का घी देते हो तो लोग समझते होंगे बापू की गौशाला का है, तुम कहाँ से लाते हो ? गौशाला में इतना घी होता ही नहीं है । बोले- हम पूना की डेयरी से लेते हैं, मैंने कहा पूना में इतनी गायें जी ही नहीं सकतीं, देशी गाय इतनी हो नहीं सकती, वहां तो उतना चारा नहीं है और वहां का क्लाइमेट गायों के अनुकूल नहीं है । पूना में कोई डेयरी है वो पूरे देश को सप्लाई करता था गाय का घी । फिर ब्रिटेनिया वाले भी उनका बेचते थे गाय का घी । मैंने पैकेट भी देखा, ब्रिटेनिया बिस्कुट वाले भी बेचते थे, पाउच आधा किलो का । लेकिन वो आर्टिफीशियल घी है, बटर आयल है, लेबोरेटरी से पास कराके आ जाते हैं तो क्या हो गया ! मैं तो चिल्लाया तो आगरा समिति ने, आगरा का संचालक जो थोड़ा लोभी है.. उसने बंद कर दिया । दूसरा फिर श्योपुर गौशाला वाला गजानन संचालक ने किसी से घी लिया और दिल्ली भेजा मणि काका को, देशी-घी अब गौशाला वाले ने भेजा है तो लोग ले जायेंगे । ३५० रुपये था उस समय लेकिन वो सोयाबीन में से बना था ९० रुपये वाला और ९० रुपये वाला घी खरीद के हमारा संचालक ३५० में बेच रहा था । ३५००० कमा लिया, बाइक लाया और एक्सीडेंट में चोट लगी| मैंने कहा अच्छा हुआ, उसका पोल भी मैंने खोल दिया और वो बाइक पे एक्सीडेंट में लगा । उस समय तो माफ़ी मांगी लेकिन अभी फिर दूसरा कुछ करेगा तो जिनको गलत विचार और गलत कर्म का चस्का लगा है वो तो एक बार चोट खा के सुधर जायें ये कोई ज़रूरी नहीं है फिर फिर से आदत पुरानी । 
स्वस्या प्रकृति प्रेरिता: । 
  भगवान कृष्ण अर्जुन को बोलते हैं, तू बोलता है युद्ध नहीं करूँगा । अरे ! तू अवश्य युद्ध करेगा क्योकि तेरी प्रकृति है, क्षत्रिय है तू । आततायी ऐसा करें और तू युद्ध नहीं करे.. ये तो क्षणिक तेरा वैराग्य है । तो श्रीकृष्ण की बात सच्ची निकली ऐसे ही मैं द्रष्टान्त देता हूँ कि एक फौजी था उसने अपना रिटायरमेंट लेकर वौल्युन्टरशिप की और रहने लगा अपने इलाके में । अब रिटायर हो गए तो घर की दही लेने गए कटोरे में । किसी ने कहा अटेंशन !! फौजी ने कटोरा यूँ फेंक दिया और दोनों हाथ यूँ करके अटेंशन हो गए, अपना स्वभाव । ऐसे ही जिनका अपना-अपना स्वभाव होता है उसके अनुरूप जब भी मौका मिला तो लग जाते हैं । दृष्टि रखनी पड़ती है, अपने नाम से, धर्म के नाम से, भगवान के नाम से ठगों मत और कोई ठगा जाए तो आप आंख मिचोली मत करो| अपना कर्तव्य है, भक्तों की श्रद्धा का दुरूपयोग न हो । लोगों के विश्वास का घात न हो । तो मैं तो चिल्लाया श्योपुर गौशाला वाला संचालक नकली घी भेजा । मणिकाका के पास से लोग ले जाते थे । ८०-९० रुपये उस समय बिकता था । १००-१२५ में लेता होगा । ३५० में बेचे और बापू के नाम से बिके, ऐसे ही गाँधीहाट में भी गाँधी के नाम से कितनी लूट होती है । गाँधीहाट ग्राम उद्योग, खादी उद्योग, गाँधीजी बिचारे तो इमानदार आदमी थे लेकिन उनके नाम से…. कृष्ण तो सबका भला चाहते हैं लेकिन कृष्ण के नाम से, अल्ला तो सबका भला चाहते हैं लेकिन अल्ला के नाम से क्या-क्या होता है ! आदमी का जैसा स्वभाव होता है वो ऐसे ही करता है इसलिए मार्ग कठिन है वरना ईश्वर, अल्ला, भगवान, गॉड कोई कठिन नहीं हैं । हमारे हल्के विचार, हल्की वासनाएं, एक दूसरे का शोषण करके सुखी होने की बेवकूफी अपने को और दूसरों को भगवान से दूर कर देती है । नहीं तो भगवान तो हाजरा-हजूर है.. अपना आत्मा है, जाग्रत में वो अपने साथ है, स्वप्ने में अपने साथ है, गहरी नींद में अपने साथ है, समाधी में अपने साथ है । समाधी आती-जाती है, जाग्रत आता-जाता है, स्वप्ना आता-जाता है, दुःख आता-जाता है लेकिन वो दाता ज्यों का त्यों रहता है । वो ही तो आत्मदेव है वो ही तो परमेश्वर है । कहीं आकाश में बैठ के थोड़ी दुनिया हो जाता हैं, यहाँ बना रहा है, धरती पे इतने मनुष्य नहीं हैं जितने आपने शरीर में बैक्टेरिया बना रखे हैं । आप बैक्टेरियों के ब्रह्मा हो, उनका पालन करते हो तो आप ही विष्णु हो और वो मरते हैं तो आप ही महेश्वर हो और वो मरेंगे फिर भी आप ज्यों के त्यों रहते हो तो आप साक्षात् परब्रह्म हो । कहीं दूर परब्रह्म नहीं है आप ही हो, पराया परब्रह्म नहीं है आप ही हो, खाली ये हलके विचार, ठगी के विचार, मनमुखता उल्झा देती है आदमी को । जो अन्दर वो बाहर, मगर आंसुओं से काम नहीं चलता, रोने धोने से मुँह बनाने से काम नहीं चलता, सच्चाई, सहजता । 
बाहर भीतर एको जानो ये गुरु ज्ञान बतायो । 
 

सहज में हो जाओ क्या है ! नेताजी थे बोले- देखो बेटे! वो आ रहे हैं, मैं बेसमेंट में जाता हूँ लोगों को बोलना कि मिनिस्टर साहब घर पर नहीं हैं, नहीं तो वे सिर खपायेंगे । लाइट नहीं आती, पानी नहीं आ रहा है, सड़क बनवा दो, मैं नीचे के कमरे में जाता हूँ उनको बोलना मिनिस्टर साहब घर पे नहीं हैं । मिनिस्टर तो अंडरग्राउंड हो गए । लोग आये बोले- मंत्री साहब कहाँ है ? बोले- पापा ने कहा है कि मैं तो नीचे के कमरे में जाता हूँ वो गाँव वाले आयेंगे सिर खपायेंगे, लाइट नहीं है, सड़क बनवा दो, पानी की व्यवस्था करवा दो, मैं नीचे जाता हूँ तुम उनको समझा के रवाना कर देना, पापा ने ऐसा बोला है । बच्चा ज्यादा सुखी है, मंत्री इतना सुखी नहीं है, निर्दोष है बच्चा । नारायण हरि, निर्दोषता बड़ी चीज़ है ईश्वर के रास्ते में, सच्चाई । Honesty is the best policy .
 

तो जो कलंकी अवतार का धतिंग कर रहे हैं उनको हम सलाह देते हैं, वो सुनते होंगे, वो बड़ा ध्यान रखते हैं कि बापूजी हमारा तो कुछ नहीं बोलते । अब तुम्हारा बोल रहे हैं, विदीशा में जहाँ भी फिर से नया अड्डा डाला है तो फिर मैं वहां कुछ आदमी भेजूंगा नहीं तो फिर मैं दूसरे ढंग से, मैं तुमको नहीं बताऊंगा, जैसे पहले तुम पकड़े गए तुमको बताया नहीं और सारा तुम्हारा लिट्रेचर हाथ में आ गया । ऐसे ही अभी भी कुछ करूँगा या तो फिर तिहाड़ में भेजूंगा तुमको, अगर मेरे भक्तों को ठगने की साजिश बंद नहीं हुई तो तुम्हारे लिए तिहाड़ की जेल पक्की हो जाएगी । भोपाल.. तिहाड़.. जहाँ-जहाँ तुमने गुनाही काम किये ठगने के इसलिए सुधर जाओ तो सुधरने की सीजन है नहीं तो वापिस देख लेना क्या होता है ! ठीक है । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय वासुदेवाय प्रीतिदेवाय माधुर्यदेवाय मम् देवाय प्रभुदेवाय कलंकीदेवाय । बोले ‘ देखो बापूजी ने कलंकीदेवाय बोला, वो टेप करके सुनायेंगे कि बापूजी ने कलंकी देवाय बोला मतलब कलंकी अवतार होना वाला है, बापूजी परीक्षा ले रहे हैं, चलो जलसा मनाओ । ’, ऐसा भी कर सकते हैं वो लोग लेकिन मैं तो टोंट मार रहा हूँ कलंकी देवाय बोल के, वो थोड़ी बताएँगे कि बापूजी ने टोंट मारने की बात कही, वो तो बस उतना बताएँगे कि बापूजी ने कलंकी देवाय बोला । लेकिन आप फ़िक्र मत करो बापू के आत्मदेव बड़े सतर्क हैं, साधकों को ठगने से बचाते रहते हैं । न ठगों न ठगाओ, न मूर्ख बनो न मूर्ख बनाओ, न दुखी रहो न दूसरों को दुखी करो । चलो प्रसाद बाटेंगे ज्योत से ज्योत जगायेंगे । ॐॐ सब तुम्हारी लीला ! वाह प्रभु वाह ! ॐॐॐॐ मानसिक जप करो और आनंद उभारो तब तक प्रसाद बांटने वाले प्रसाद बांटना शुरू करो । और ये सब बकवास है ऐसे लोगों के चक्कर में नहीं आना लेकिन विदीशा में जो आ रहे हैं, छिन्दवाड़ा में, भोपाल में, दिल्ली के होटल में भी मीटिंग की थी उन लोगों ने, कई वहां भी अपने साधकों को नोचा, दक्षिणा निकलवाई, अच्छे-अच्छे लोग । वो ऋषि.. निर्माण विभाग का वो भी अभी उसी ग्रुप में है, विनीत वो भी उसी ग्रुप में लग गया था, वो अब निकल गया बाहर और भी कई अपने आश्रम के संपर्क वाले कलंकी अवतार के विभाग में जुड़ गए । ये भी बापूजी की सेवा है और बोले ‘ बापूजी परीक्षा लेंगे, बापूजी बोलेंगे कि नहीं है मेरा तो उनको कसम डाल देते हैं कि किसीको बोलना नहीं, बापूजी कलंकी अवतार के प्रति तुम्हारी श्रद्धा तोड़ेंगे, परीक्षा लेंगे, ऐसा हिप्नोटाइज कर देते हैं । उनका ग्रुप भी बड़ा चालबाज़ बहुत जानता है । नारायण हरि, मच्छर को भी अक्ल देने वाला तो देता है न… बापू को ठेंगा दिखा के मच्छर भाग जाता है ऐसे ही ये मच्छर बिचारे कर लेते हैं खेल ।
 

कुल-मिला के क्या करना है ? जल्दी से जल्दी भगवद्सुख पा लेना है, भगवद्शांति पा लेना है, भगवद्ज्ञान पा लेना है और भगवान के नाते सच्चाई से, सरलता से, जो कुछ आये गलती-वलती, बता दे लिख के दे दे गुरूजी को कि ये हो रहा है, मेरे को बचाओ । मेरी गलती किसने बताई ? तो तुम और गलती में जाओगे, मेरे को बोलते बापूजी को क्यों बताया ? तो तुम्हारी बद्नीयत है, सुधरने की इच्छा नहीं है । बापू को किसने बताया ? बापू को किसने बताया ? जिसने बताया उसके पैर धो के पियो । नहीं !! उसको फिर टोकेंगे, ऐसे आदमी ईश्वर के रास्ते के ग्राहक नहीं होते, वो तो कीट-पतंग की योनी में जाने के ग्राहक होते हैं । नारायण हरि । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय, वासुदेवाय प्रीतिदेवाय माधुर्यदेवाय मम् देवाय आत्मदेवाय प्रभुदेवाय प्यारेदेवाय ॐॐॐ ( कंठ से ) । 

 

ॐ शांति

श्री सदगुरुदेवजी भगवान की महा जयजयकार हो !

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे ….  

मंत्र जाप से बारिश

Posted जुलाई 4, 2013 by HariOm Group
श्रेणी: Uncategorized

 

P.P. Sant Shri Asharamji Bapu Satsang – Badarpur-Delhi, 23rd June 2013 Part-II

    ये सातारा जिले में अकालग्रस्त लोगों के मटके, बादलियाँ, पीने के साधन वो.. बापू जी ने पानी का बिघाड किया वो दिखाने के लिए प्रोग्राम तो मुंबई में हुआ, लेकिन दिखाया सातारा जिले का जहाँ अकाल था |  तो हमारे साधक वहाँ पहुँच गये | जहाँ सुखाग्रस्त था, पिछले दो वर्ष से त्राही माम् पुकार रहे थे लोग | पीने के पानी नहीं, गाए-भैसों की भी तकलीफ थी | तो २२ से २४ मई २०१३ को अपने साधकों, समिति वालों ने यज्ञ शुरू किया | तो यज्ञ के पहिले से ही तलाव में दरारे पड़ी थी और यज्ञ शुरू हुआ कुछ एकाद दिन में आकाश में बादल पधारे और यज्ञ पहिला हो उसके पहिले छोटे-मोटे नाले पुरे हो गये और तलाव इतना पानी आ गया की १/३ तलाव भर गया | जहा सुखा की तकलीफ थी | लेकिन वो साधकों ने अपने मन से ही ‘ॐ नम शिवाय, ॐ नम शिवाय’ करके आहुतियाँ दी | अगर बीजमंत्र और थोड़ी विधि यहाँ से भी लेते तो तलाव ओव्हरफ्लो भी हो सकता था | तो ये सब भगवान की मंत्र की अदभुत शक्तियाँ साधकों के द्वारा कई बार अपना प्रभाव दिखा देती है | 

एक जगह पर आये दिन बहुत एक्सिडेंट होते थे | वो जगह थी वापी की | देखते – देखते लोग गाडी को जरा एक दुसरे को टच हुआ और अंदर बैठा हुआ आदमी मर जाय | तो मैं समझ गया की यहाँ प्रेतों का बाहुल्य है | तो वापी वालों को मैंने कहा कि तुमने जो मंत्र लिया है, गुरुमंत्र का जप करो| फिर रविवार के दिन जहाँ एक्सिडेंट होते है वहाँ गुरुमंत्र जप करना १० मालाएँ | फिर प्रेतों की मुक्ति का मंत्र मैंने उनको गोपनीय में दिया | वो जप करते जाना मन में और स्वाहा करते जाना और फिर एक माला सबकी हो जायेगी| फिर वो पानी में देख के आसपास में छिटक देना | आये दिन रोज लोग मरते थे.. वहाँ बलि चढती थी एक्सिडेंट के द्वारा | छ: महीने में खबर आयी के वहाँ पर एक भी एक्सिडेंट नहीं | १२ महीने में खबर आयी के अभी तक नहीं | दो साल के बाद हम गये तो बोले- बाबा! एक भी एक्सिडेंट जीव लेवा नहीं हुआ | खाली किसी  ड्राईवर को नशे से कारण जरा-सा पुलियां की खरोच आई थोड़ी गाड़ी को| दो साल में कोई एक्सिडेंट नहीं हुआ, थाने में जाँच कर सकते है | नहीं तो एक महीने में कई जाने जाती थी | तो जहाँ-जहाँ एक्सिडेंट होते है | रात्री का ९ से ११ के बीच नींद शरीर की थकान मिटाने में बेजोड़ काम करती है और ११ से १ की नींद शरीर में नई कोशिकाये बनती है और यौवन लाती है और १ से ३ तक की नींद लिवर को मजबूत करती है और जिसका लिवर मजबूत हो तो सारा शरीर मजूबत हो | १ से ३ के बीच कोई जगते है तो उनको अनिद्रा की तकलीफ सहनी पडती है, नेत्रज्योति की तकलीफ सहनी पडती है और प्रतिक्रिया करने की शक्ति ढब्बू हो जाती है | बौद्धिक प्रतिक्रिया, मानसिक प्रतिक्रिया, इसका नमूना देखना हो तो ट्रक ड्राईवर को देखना रात्री को देखते हो तो प्रतिक्रिया शक्ति उनकी ढब्बू है | ट्रक मालिक तो ट्रक का आर टी ओ टैक्स भरते है, ट्रक ड्राईवर टोल टैक्स भरते है फिर भी दो-चार खाकी वर्दी वाले डजनों-सैकड़ो ट्रक को रोक देते है और नाक रगडवा-रगड़वा उनसे पैसे नोचते है और आज तक कोई प्रतिक्रिया नहीं.. नोचते चले जाते है | और ट्रक ड्राईवर का कोई बढ़िया फ्लैट हो तो मुझे दिखा दे | नहीं दिखा सकते | बढियाँ गाडी नही होगी, बढ़िया फ्लैट नहीं होगा | मेहनत तो तुम्हारे- हमारे से वो ज्यादा करते है | लेकिन रात्रियों को जागरण के कारण उनके बौद्धिक, मानसिक और शारीरिक प्रतिक्रिया ढब्बू हो जाती है | इससे सबक सीखना है कि रात को ११ से ३ के बीच गहरी नींद करना ही चाहिये | १० बजे करे तो और अच्छा है | जब से ये मैंने शास्त्रीय बात सुना तब से मैंने शाम को ७ बजे तक भोजन कर लेता हूँ, सुबह १०-११ बजे तक कर लेता हूँ | मेरे साधकों को भी बड़ा फायदा हुआ है | 

जो १ से ३ के बजे भोजन करते है उनको भोजन है सही पचता नहीं है | शरीर थका-थका रहता है | जो रात को देर से भोजन करते है वो मोटे भी हो जाते है और बिमारियों को शिकार हो जाते है | सूरज अस्त के पहीले भोजन कर ले तो और अच्छा है | नहीं तो ७ बजे ८ बजे कर ले जो देर हुआ तो खाना खराब हो जाता है | दोपहर को ११ के बाद जितना देर से भोजन करेंगे क्योंकि ११ से १ तक हमारी जीवनीशक्ति ह्रदय में होती है | ह्रदय को विकसित करने का समय, ९ से ११ भोजन पचाने का समय होता है जीवनीशक्ति को | तो जिस समय जीवनीशक्ति जहाँ है उस समय वो कार्य शरीर के लिए, मन के लिए, बुद्धि के लिए हितकारी है | जैसे जिस समय अधिकारी का अधिकार है पर वो बदली हो गया तो कोई अधिकार नहीं ऐसा ही हमारी जीवनीशक्ति २४ घंटो में १२ जगह पर यात्रा करती है | ३ से ५ के बीच फेफड़ों में जीवनीशक्ति होती है | तो ४ से ५ के बीच प्राणायम कर लेता हूँ मैं प्राणबल बढ़ता है, मनोबल बढ़ता है | ५ से ७ बडी आंत में जीवनीशक्ति होती है | तो कसरत कर लेना चाहिये, पानी पीना चाहिये, शौच आदि से, स्नान आदि से निवृत्त होना चाहिये ७ बजे के पहिले-पहिले | ७ से ९ के बीच जीवनीशक्ति आमाशय में रहती है | कुछ पेय पदार्थ पीना है तो उस समय अच्छा पचेगा | ९ से ११ जीवनीशक्ति अग्नाशय में रहती है | ९ से ११ के बीच में भोजन करना चाहिये | ११ से १ जीवनीशक्ति ह्रदय में रहती है | ह्रदय को विकसित करने के लिए – पाठ, जप, ध्यान, शुभकर्म, भगवतभाव | १ से ३ जीवनीशक्ति रहती है छोटी आंत में, जो ११ बजे भोजन किया है १ से ३ बीच उसके रस को छोटी आंत खींचकर पुरे शरीर को देती है | अगर १ से ३ के बीच भोजन किया तो उसके कार्य में विघ्न डाला और कच्चा रस खीचेगी तो मिलेगा वही | कच्चा, पक्का रस जैसे डाल उबली है और पक गई है और फिर दूसरी डाल दी वो थोड़ी बनी न बनी तीसरी कच्ची डाल दी तो दाल का स्वाद और हाल व आरोग्य गड़बड़ हो जायेगा | ऐसे ही जीवनीशक्ति १ से ३ बीच छोटी आंत में होती है और उस समय भोजन करना नुकसान करता है | ३ से ५ जीवनीशक्ति मूत्राशय में होती है | खूब पानी पीना चाहिये ३ से ५ के बीच में, पानी पी के तुरंत पेशाब नहीं करना चाहिये | पेशाब के बाद तुरंत पानी न पीये ५ – २५ मिनट का फांसला हो | और ५ बजे तक पेशाब आदि करके पानी खाली कर दे | तो मूत्र सबंधी बीमारियाँ बुढ़ापे में नहीं होगी | 

अगर किसी को भी पथरी सबंधी बीमारी है तो पथरी का ऑपरेशन भूल कर भी न कराना | आपने आश्रमों में और समिति वालों के पास पथरीचट पौधा है | पथरीचट पौधा बढ़ा पन्ना है तो एक चबाओ, मध्यम है तो दो पत्ते चबावे | कुछ दिन चबाने से पथरी के टुकड़े-टुकड़े हो के निकल जाती है | 

ऐसे बायपास सर्जरी भी कभी नहीं कराना | अपने आश्रम के वैद्य घरेलु उपाय बतायेंगे उससे भी ब्लोकेज खुल जाता है अथवा तो आश्रम की ह्र्द्यसुधा नाम की औषध लिक्विड है २ – २ चम्मच रोज लेवे तो ब्लोकेज खुल जाता है | बायपास सर्जरी नहीं कराना चाहिये | 

अपेंडिक्स का ऑपरेशन नहीं कराना चाहिये | २ – २ गोली कोष्टशुद्धि पेट की शुद्धिवाली २ – २ गोली शाम को लेवे| कैसे भी पेट सबंधी तकलिब है तो ठीक हो जाती है, अपेंडिक्स ठीक हो जाता है | 

बच्चे को जन्म देते समय डॉक्टर डरा देते सिजेरियन कराते है और बड़ा ऑपरेशन कराते और वो भूल के भी नहीं कराना चाहिये | देशी गाय के गोबर का १० ग्राम रस दे दो भगवान नाम लेके.. अपने-आप प्रसूति होती है | बच्चा गर्भ में टेढ़ा है, ये है, दो सिरवाला है, आँखे नहीं है, किडनी नहीं है… ये सब डरा-डरा के पैसे लुटनेवाले गुमराह कराते है उनके बांतो में नहीं आना चाहिये | दो सिर वाला बच्चा है ओबर्शन करावो | मैंने कहा मत करावो| फिर दो बच्चे लेके आये बोले- बापू ! अपने दो सिर वाले बच्चे से दो बच्चे बना दिये | ये मैं जानता भी नहीं, कर भी नहीं सकता | वो तो दो ही बच्चे थे ओबर्शन के लिए, पैसे कमाने के लिए तुम्हारे साथ धोखा कर दिया जाता है | तो माताएँ-देवियाँ भूलकर भी ऐसे डॉक्टरों के चक्कर में नहीं आना जो बोले तुम्हारा गर्भ विकसित नहीं हो रहा है | आँखे नहीं है, किडनी नहीं है, दो सिरवाला है और भी कुछ कह दे तो उसके चक्कर में नहीं आना | 

गर्भ का विकास करना हो तो – नारियल और मिश्री चबा-चबाकर खाओ | दूध पीते हो तो ४०० ग्राम उसमे २०० ग्राम पानी डालो, सोना हो चाँदी हो डाल दो | उबाल – उबाल के पानी पानी सुख जाय और दूध गर्भिणी पिये तो बच्चे की ग्रोथ होगी और मजबूत बनेगा | बुढा बुजर्ग, कमजोर आदमी ऐसा दूध पीयेगा तो बलवान हो जायेगा | 

एक प्रसिद्ध व्यक्ति था | उसकी सेक्रेटरी बीमार पड गई| ऐसी पागल जैसी हो गई | माइग्रेन की बीमारी और मोबाईल फोन के उपयोग से वो युवक कन्या अच्छी बिचारी, संयमी ऐसा नहीं कोई बॉयफ्रेंडवाली हो | नहीं, संयमी और किसी संत की वो सेक्रेटरी थी | वो संत को पिता मानती थी | लेकिन ऐसी बीमार हुई की कुछ के कुछ होने लगा कि संत महाराज को बोलती तुम मेरे को मारते हो.. ऐसा मेरे को लगता है स्वप्ने में | तुम मेरे को जला रहे हो, ऐसा हो रहा है, नींद नहीं आती | तो एक ८४ साल के संत ने उस कन्या को उपाय बताया | और उस उपाय से वो चंगी हो गई | माइग्रेन चला गया | वो उपाय मैं तुमको बता देता हूँ |    

माइग्रेन हो तो – ककड़ी के बीज, खीरे के बीज, तरबूज के बीज और लौकी के बीज चार बीज हो गये | सात ममरी बदाम और सात पिस्ते लें (डोडी पिस्ता नहीं बारीक पतले पिस्ते आते है) | ये भीगा दो और सुबह उसको घोट के अच्छी तरह से और लो | २ – ३ दिन में वो कन्या चंगी हो गई | १५ दिन तक लेना चाहिये | तो मेरे को लगा ये प्रयोग अच्छा है तो मैंने कर लिया | तो मेरे को अंतर प्रेरणा हो गई  – सात ममरी बदाम, सात पिस्ते, चार प्रकार के बीज ये महँगा सौदा है| ये इस सीजन में खायेगा तो भूख क्या लगेगी | फिर अजीर्ण की तकलीफ होगी तो मेरे को याद आ गया – ममरी बदाम, गाय का घी (अपनी देशी गाय) जिस गाय को आँवला खिलता हूँ मैं, तुलसी खिलाते है और चीज खिलाते है | ऐसी गायों का घी, ममरी बदाम और मिश्री उसको पीस-पास के चाँदी के बर्तनों में रखते चंद्रमा की चाँदनी में और फिर उसको पैक करके चाँदी के बर्तन में अथवा तो मार्बल के बर्तन में उसको अनाज में दबोज देते ७ दिन तक | तो वो बन जाता है ममरी बदाम महाशक्तिशाली औषध | ये सात बदाम नहीं होते एक – डेड बदाम ही हुआ | उस ८ -१० ग्राम मिश्रण को चबा-चबाकर खाये तो माइग्रेन तो भाग जायेगा, पूरा नाड़ीतंत्र चंगा हो जायेगा | और मैंने वो खाया था और नेत्रबिंदु डाला था की मेरा नाड़ीतंत्र इतना पावरफुल हो गया की मेरा चश्मा उतर गया | वो मैंने सौ-सौ किलो ममरी बदाम का आदेश दे दिया | कल २४ जून है चंद्रमा १७ हजार किलोमीटर धरती के करीब आयेंगे | अगर बादल नहीं हुये तो ममरी बदाम को चंद्रमा की चाँदनी भी खिलायेंगे | और ७ दिन में वो महा टॉनिक बन जायेगा | 

सैंधा नमक खाये तो भूख लगेगी और भूख लगी और खाया.. भारी हो रहा है तो सौंफ और इलायची चबाके खावोगे तो पाचन ठीक हो जायेगा | 

जामुन खाली पेट नहीं खाना | उनके की भी बड़े फायदे है | भूख लगाते है, लेकिन भूखे व्यक्ति खायेगा तो वायु करेंगे | खाकर फिर जामुन खाना |  नारायण हरि …..

जिनको हार्ट अटैक का कोई भी शक हो वो लोग वैद्य से मिलकर वो फालसे का रस ले जाना | काम में, क्रोध में, भय में, चिंता में, ममता में जो दिल गिर रहा है वो भी बदल जाता है | 

और जिनको गरमी के कारण, पित्त के कारण और किसी कारण रात्री के १२ बजे नींद खुल जाती है तोअथवा नींद गाढ़ी नहीं आती तो उन लोगों को क्या करना चाहिये कि ५० ग्राम धनियाँ, ५० ग्राम सौंफ, ५० ग्राम आँवला नहीं तो पावडर और ५० ग्राम मिश्री | उसका मिश्रण बनाके रख दे | ९ से ११ भोजन कर ले फिर ३ से ५ के बीच ये भीगा हुआ घोल मसल के पी ले | गरमी भाग जायेगी अच्छी नींद आ जायेगी | नथेली फूटती है तो – धनियाँ का रस नाक में २ – २ बूंद डाल दो | नथेली फूटना बंद हो जायेगी | 

ॐ ॐ ॐ                                               

 

ॐ शांति

श्री सदगुरुदेवजी भगवान की महा जयजयकार हो !

गलतियों के लिए प्रभुजी क्षमा करे ….  

महापुरुषों की नजरों से……

Posted फ़रवरी 5, 2013 by HariOm Group
श्रेणी: Uncategorized

Tags: , , , , , , , , , , , , , ,
30th Jan. 2013  
Jabalpur
Part 2 
 
धर्मदास की कथा 

भगवान का दर्शन एक बार हो जाये तो फिर अदर्शन हो नही सकता | एक बार भगवान का ज्ञान हो जाये तो अज्ञान नही होता | एक बार गुलाब के फूलो का ज्ञान हो जाये मैं छुपा दूँ तो उसका अज्ञान नही होता | गुलाब को जान लिया | ऐसे ही भगवान का दर्शन हो जाये तो भगवान को जान लिया | रोज-रोज भगवान का दर्शन करना पड़ता है इसका मतलब तुमने मूर्ति का दर्शन किया | अभी भगवान का दर्शन नही हुआ | कबीरजी ने ऐसी सार बात सुनाकर उसकी आँखों में झाँका | वो तो सत्पात्र था | क्या का क्या होने लगा | आज तक तो मैं मूर्ति का दर्शन करता था | भगवान का दर्शन एक बार होता है तो दूसरा उसको पर्दा कौन डाल सकता है | अज्ञान नही होता | कबीरजी जाते-जाते बोल गये अच्छा मेरा नाम कबीर है, कभी काशी आओ तो मिल लेना | धर्मदास सोचता था के मैं अभी पीछा करूं | लेकिन रेवा डिस्ट्रिक्ट में इतने खेत-खली हैं | इतनी दुकाने हैं, इतने ब्याज पे पैसे हैं | इतने गहने हैं, हीरे हैं, जवाहरात हैं | अभी इनके पीछे | समझा के अपने को ले आया तो बाकें-बिहारी के दर्शन नही कर पाया | घर में बाके-बिहारी की पूजा करे तो बोले अरे ये तो प्रभु की मूर्ति है, प्रभु आप कौन हो ? अंदर से आवाज आया संत शरण जाओ | कैसे करूं ? बोले करने वाला तो अहम होता है | अहम, बुद्धि, मन बदलता है | फिर भी जो नही बदलता है वो मैं हूँ | मुझे जानो | आपको कैसे जणू, कैसे पाऊ ? जाओ संत शरण | ऐसी आवाज आये | ६ महीने हुए ना हुए कबीरजी के पास पहुँच गए | और यू देखे मेरे आनंद स्वरूप, ज्ञान के दाता, सिद्ध पुरुष कबीर को | कबीर को ऐसे देखे मानो पी जायेगा कबीर को | इतने प्यार से देखे | 

कुछ लोग ऐसे बेवकूफ होते हैं महाराज आशीर्वाद दो | अरे बेवकूफ संत के दर्शन अभी आशीर्वाद तेरे गहरे में | नजरों से वो निहाल हो जाते हैं जो संतो की नजरों में आ जाते हैं | पहुंचे हुए संतो से आशीर्वाद माँगा थोड़े ही जाता है | चंदा को बोले चांदनी दे तो चांदनी का मजा क्या लेगा तू ? भिखमंगा होके | तू तो अभी चाँदनी देख के आन्दित हो जा | सूरज को बोले रोशनी दे तो अभी रोशनी का फायदा क्या लेगा ? गंगाजी को बोले पानी दे | अरे गंगाजी बोले मुर्ख है तू अभी मेरी ठंडक लेले तू | अभी पानी लेले | ऐसे ही जो सत पुरुष होते है, सिद्ध पुरुष होते हैं | उनको ऐसा नही बोलना चाहिए आशीर्वाद दो | जो बिजनेस मेंन होते हैं वो जुग-जुग जियो ज्यादा प्रसाद रखो तो ज्यादा अच्छा आशीर्वाद | न रखो तो थोडा आशीर्वाद और जुग-जुग जियो को तो मर जायेगा | जुग-जुग जियो कैसे जियेगा ? खुदा-ताला रोजी में बरकत दे | खुद तो ब्याज पे चल रहा है | १० साल से गूगल का धुप करते हैं और दुकान से २-३ टके पर ब्याज ले रहा है | अरे वो ईश्वर में, अल्लाह में बैठा है, बोले ना बोले उसकी निगाहों से ही दुआ बरस जाती है | नजरों से वो निहाल हो जाते हैं जो संतो की नजरों में आ जाते हैं | 
टुंक-टुंक कहे निहारो धर्मदास बहुत दिन बाद आये | हर्षित मन की ना बह्गपुरुष मोहे दर्शन दीन्हा | मन अपने तब कीन्ह विचारा इनकर जाना महा टंक सारा | मन में विचार किया के कबीरजी के पास तो महा टंक सार हैं | मर्रे रुपय, पैसे, तो कुछ भी नही | सत्य की  अशर्फी, आनंद की गिनियाँ, तिजोरी भर रही भरपूर | इतना कह मन कीन्ह विचारा | तब कबीर ओर निहारा | आओ धर्मदास पग धरो | कुहुक-कुहुक तुम काहे निहारो धर्मदास हम तुमको चिन्हा | बहुत दिन में तुम दर्शन दीन्हा | तुमको मैंने वृन्दावन में देखा के तुम सत्पात्र हो | गुरु की कृपा को पचाने वाली श्रद्धा, भक्ति के धनी  हो | इसलिए मैंने तेरे को देखा था | देख कैसे आ गया | अब क्या है | गुरूजी अब मैं यहीं रहूँगा | धर्मदास की इतनी जायदाद ये वो था | अपने रिश्तेदारों को लिख दिया जो है आपस में बाँट लेना यहाँ महा टंकसाल है | उसको छोड़कर तुम्हारे नश्वर सोना बाँटने नही आऊँगा | गए नही वापस | अमीरी की तो ऐसी की सब जर लुटा बैठे | ओर गुरुभक्ति की तो ऐसी की के गुरु के दर आ बैठे | फिर वापस गए नही | बड़े धनी थे, बड़े बुद्धिमान थे | फिर कबीरजी ने भी लुटा दिया उनको आत्म परमात्मा का ज्ञान देकर | 
मैं किसी को ये नही कहता तू दारू छोड़ दे, गुंडा-गर्दी छोड़ दे, चम्बल की घाटी छोड़ दे | तू अभिमान छोड़ दे | कुछ भी नही बोलता | मैं तो अच्छाई पकड़ा देता हूँ | अंग्रेजी रंग छोड़ दो नही | पलाश के रंग से रंग दो | वेलेंटाइन डे मत मनाओ नही, माँ-बाप का पूजन दिवस मनाओ, वेलेंटाइन डे की ऐसी-तैसी | अब माँ-बाप का दिल भी खुश बच्चों का भविष्य भी सुरक्षित, चमकता है | 
 
 

दीक्षा की महिमा

Posted फ़रवरी 5, 2013 by HariOm Group
श्रेणी: Uncategorized

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

30th Jan. 2013

Jabalpur
 
जरा-जरा बात में माताए, बहेने बेचारी ऐसे ठगी जाती हैं, डरा देते हैं | बोले गर्भ का विकास नही है, बच्चे की आँख नही है, किडनी ठीक नही है, दिमाग नही है | बस गर्भ-पात कराओ अथवा तो बच्चा ही नही है, गांठ है | मैंने कहा गांठ-वाँठ नही है, तुम देखो क्या होता है | फिर कहते हैं बापूजी आपने बच्चा बना दिया | मैंने नही बनाया वो तो था ही, मैं काहे का बनाया | डॉक्टरों ने बोला लड़की है, बापू स्वप्ने में आये बोले गर्भ-पात नही कराना | बापूजी उस लड़की को आपने लड़का बना दिया | मैंने नही बनाया वो तो लड़का ही था | मैं काहे को झूठा यश उठा लूँ | ऐसा कुछ नही होता वो था ही लड़का बता देता है लड़की ताकि गर्भ-पात के पैसे कमाओ | अच्छे डॉक्टरों को तो मैं खूब हृदय से लगता हूँ | बाकि जो गुमराह करती है उनको थोडा चेतावनी दे देता हूँ | माईयों के साथ अत्याचार ना हो | ऐसी-ऐसी माइयाँ हैं जिनको देख कर दया आ जाये | बिन जरूरी सिजेरियन कर दें | बेटियों की परेशानी देखकर तो बाप को तो दुःख होगा | मैं तो पिताजी हूँ | जो तो ठगते हैं उनको हरामी बोल दिया तो क्या है | महिलओं को ठगते हैं, बच्चों की हत्या करते हैं | और पिता वैसे ही अपने बच्चों को छोरा तू तो हरामी है | 
अब्राहम लिंकन, प्रेसिडेंट ऑफ अमेरिका, मानवतावादी था | लेकिन ईश्वर से जोड़ने वाली सत्ता के आभाव में अभी बिचारा व्हाइट हॉउस में कभी-कभी प्रेत के रूप में दिखाई देता है | वहाँ के समाचार पत्रों के आधार पर | ऐसे ही राजा अज साँप की योनी में भटका | राजा मृग किरकिट बन गया | श्री कृष्ण ने उसकी सद्गति की | बड़ा प्रसिद्ध राजा था | बुद्धिमान था तभी इतना प्रसिद्ध हुआ | लेकिन दीक्षा के बिना मरा तो किरकिट की योनी में जा गिरा | राजा भरत जिसके नाम से भारत नाम पड़ा, अजनाबखंड का, वो हिरन की योनी में चला गया | इसलिए दीक्षा बहुत जरूरी है | भगवान राम ने भी दीक्षा ली थी वशिष्टजी से | भगवान कृष्ण के भी गुरु थे | निगुरे आदमी का तो सब व्यर्थ है | जिसने दीक्षा लिया और माला पे जप करता है, वो माला गले में पड़ी है और कुछ भी दान-पुण्य करता है, तो उसका १००० गुना फल होता है | स्नान करता है, जप करता है, ध्यान करता है, माला गले में है | शौचालय में माला गले में पहन कर नही जाना चाहिए | अगर माला गले में है तो माला सहित स्नान कर लें | फिर माला धो के पहन लें | 
मासिक दिनों में माला गले में नही हो ५ दिन | मासिक दिनों में मंत्र जपे लेकिन ओमकार नही जपे | जैसे हरी ओम है तो हरी | ओम नमह शिवाय मंत्र है तो शिव | ओम गुरु मंत्र है तो गुरु | ओम नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र है तो वासुदेव | ओम ऐम नमह मंत्र है तो कभी-कभी ऐम नही तो खली नमह ओम नही जपना है | 
मेरे शिष्यों को हार्ट-अटेक कभी ना हो, हाई बी.पी., लो बी.पी. कभी ना हो | अगर है तो आशीर्वाद मंत्र जप करो, भाग जायेगा हार्ट-अटेक, हाई बी.पी., लो बी.पी. | पति-पत्नी के झगड़े कभी ना हों | अगर झगड़े हैं तो १० माला जप करोगे थोड़े दिन तो झगड़े भाग जायेंगे | शनि देवता का ग्रह मेरे शिष्यों को नही होना चाहिए | अगर है तो १०० माला जप करो | शनि देवता आशीर्वाद देके, चाहे साढ़े सात साल के हों चाहे १२ साल के आये हों चले जायेंगे | मेरे शिष्यों को पीलिया ना हो, लीवर खराब ना हो | अगर है तो १ चुटकी चावल रखो, १ घूँट पानी रखो | और वो आशीर्वाद मंत्र ५० माला जप करो |१-२ दिन में पीलिया ठीक हो जायेगा, लीवर ठीक हो जायेगा | २६ लाख रुपया लेते हैं फिर भी लीवर ठीक नही होता | यहाँ २६ पैसा भी खर्च नही होता | एक चुटकी १ दिन में, २ चुटकी २ दिन में बस | २६ लाख भी बच जायेंगे | कुटुम्बी की लीवर काट के डालते हैं, कुटुम्बी भी बच जायेंगे | और सक्सेस १००% | 
ऐसे ही दमे की दवाई भी नही है | फू-फा कराते-कराते लंगज खराब कराते | दमे की दवा हमारे वैद्यों के पास है | 
अपेंडिक्स हो, ऐड़ी का दर्द हो तो पेट की शुद्धि से ठीक हो जाता है | ऑपरेशन नही कराना कोष्ट शुद्धि से ठीक होता है | पेट की खराबियों से विजातीय द्रव्य इकठे होते है तो दर्द होता है | शुद्धि हो गयी, कचरा निकल गया तो बस साफ | 
जिनको सिर दर्द हो, मंजन करते समय, पेस्ट नही करना चाहिये | जिनको गर्मी में आँखे जलती हों तो उनको मिर्च और तली हुई चीजे कम कर देना चाहिये | और धनिया, सौंफ और मिश्री ५०-५०-५० ग्राम मिश्रण करके रख देना | शाम को ३-४ बजे भीगा दे | सूर्य अस्त होने के पहले उसको छान के पी ले | पित भाग जायेगा | अधिक मासिक, सिर दर्द उसमें आराम मिलेगा | और मंजन करते समय सिर दर्द वाले या कोई भी कटोरी में पानी लेकर, घूँट मुँह में ले लिया | फिर आँख डूबाई और आँख फट-फटाया | तो आँखों और दांतों के द्वारा गर्मी खिचके सिर दर्द में आराम मिलेगा | गाये के घी का नस्य लेने से दिमाग के दर्द सब गायब | लेकिन गाये का घी शुद्ध मिले तो | सिरका और दूधि का तेल भी डालने से अच्छा रहता है | जो बहेरे हैं वो कण में प्याज का थोडा रस डाल दे | 
दीक्षा की महिमा
कलयुग में जो छोडकर मरना है वो चाह रहे है, ऐसी बुद्धि हो गयी है | तेरी प्रीति दे दे, तेरा नाम दे दे, मैं तुझे पा लूँ, ऐसे ग्राहक नही मिलते भगवान को | जो दीक्षा लेते तो वो ग्राहक भगवान के हो जाते हैं | भगवान दयालु हैं देखते हैं मेरे सिवाय तो जीव का कल्याण तो होने वाला नही | चाहे कितना धन मिले | सोने की लंका मिल गयी, फिर भी रावण का कल्याण नही हुआ | शबरी भिलन को गुरु की दीक्षा मिल गयी, फिर तो शबरी भिलन का अकल्याण नही हुआ, महाकल्याण हो गया | मीरा को रहिदास गुरु की दीक्षा मिल गयी, कल्याण हो गया | सदना कसाई, धन्ना झाठ, समाज में बोले २ पैसे के आदमी लेकिन गुरु की दीक्षा से महान बन गये | देवताओ के भी गुरु होते हैं, भगवान के भी गुरु होते हैं | मनुष्यों के भी गुरु होते हैं | अध्यात्म गुरु के बिना मनुष्य जन्म व्यर्थ है | शास्त्र में तो यहाँ तक लिखा है जो निगुरा है उसके हाथ का जल और भोजन, विष्ठा और मूत्र तुल्य है | कबीरजी ने भी निगुरे लोगो को लानत दी है | निगुरे का नही कोई ठिकाना, चौरासी में आना-जाना, यम का बने महेमान | सुन लो चतुर सुजान निगुरा नही रहना || निगुरा होता हिय का अँधा, खूब करे संसार का धंधा | पड़े नर्क की खान || कहाँ राजा मृग और किरकिट हो गया | नर्क ही तो है | पड़े नर्क की खान || सुन लो चतुर सुजान निगुरा नही रहना || गुरु बिन माला क्या सटकावे, मनवा तो चाहू दिशा जाये || यम का बने महेमान | सुन लो चतुर सुजान निगुरा नही रहना || हिरा जैसा सुंदर काया, हरी भजन बिन जन्म गवाया | कैसे हो कल्याण | निगुरे नही रहना || सुन लो चतुर सुजान निगुरे नही रहना || 
आचार्य विनोभा की माँ की कथा
आचार्य विनोभा की माँ रघुनाई रात को सबको भोजन कराके भगवान के आगे प्रार्थना करती, जो कुछ हुआ तुम्हारी सत्ता से हुआ | गलती हो गयी तो माफ़ करना, मुझे अपनी भक्ति देना | हे देव, हे ईश्वर तुम्हारी भक्ति देना | तुम्हारी माया में ना फसूं | जो तुम्हारी शरण आता है, उसको तुम पार क्र देते हो | मैं तुम्हारी शरण हूँ, हे गोविन्द, हे गोपाल, हे अच्युत | हे अन्तर्यामी देव, माझा देवा | आँखों में से आंसू आते | विनोभा लिखते मेरी माँ के वो आंसू देखकर मैं बड़ा प्रभावित होता | फिर मेरी माँ सोते समय दही जमाने को, भगवान को बोलती हे मेरे भगवान मेरी दही अच्छी जमा देना | मैं छोटा था तो सुनता था | जब बड़ा हुआ तो माँ को एक दिन टोका मैंने | अब दही जमाने में भगवान को क्यों घसीटती हो ? दूध गर्म हुआ और फिर दही के लायक हुआ तो दही डाल दो तो दही जमता है | जामन डालने से, इसमें भगवान को क्यों घसीटती है के भगवान तुम दही जमा दो | तो माँ ने मेरे को सुनाया अरे विनिया, तुझे पता नहीं सब नियम भगवान की सत्ता से हैं | दूध में जामन डालो और दही बने ये भगवान ने ही किया है न | तो अभी मैं भगवान को याद करके करूंगी तो भगवान के भाव से वो दही जायेगा तो अच्छा जमेगा | 
विनोभा लिखते हैं मैं जेल में था और दही जमाने को खूब सावधानी रखता था | फिर भी दही कभी जमे, कभी नही जमे, कभी पानी छोड़े, कभी खट्टा हो जाये | माँ के हाथ जैसी दही नही बनती थी | 
मैं ६० करीब हो गया हूँगा तो मेरी माँ ८०-८५ की थी | तबियत भी खराब थी | मेरी माँ को मैंने बोला मैं तुम्हारे हाथ की रोटी खाना चाहता हूँ | मेरे को पता है माँ को तो बुढ़ापा है, मेरे को तो रोटी खिलने वाले लाखो लोग हैं | फिर भी मैंने माँ को बोला, के माँ के हाथ की रोटी का स्वाद ही कुछ निराला है | 
ऐसे ही देवियाँ-माताए अपने बच्चो के लिए भगवान का नाम जपते हुए आटा घून्धो | पति को, पुत्रो को, भगवान के लिए बनाओ | आपका रसोई बनाना भगवान की भक्ति हो जाएगी | फिर प्रभुजी को खिला दो | भगवान को भोग लगा दिया फिर उनको दिया, उन में भी तो भगवान ही खा रहे हैं | क्या करें रसोई बनानी पडती है, माला नहीं होती | अरे माला तो माला रहे लेकिन रसोई को भी माला बना दे | रोने को भी माला बना दे | हे प्रभु, अभी तक संसार सच्चा लग रहा है, सुख-दुःख सच्चा लग रहा है | ऐसे दिन कब आयेंगे के तू सत्य स्वरूप है बाकि सब सपना है | हरी…..ॐ…..हरी ॐ…….| ओ रोना भी हसने में बदल जायेगा | भगवान के साथ कैसे भी करो | पंगा लेना है तो भगवान से लो | लड़ाई करना है तो भगवान से | मथा टेकना है तो भगवान से | सबसे बड़े भगवान, उनसे नाता तो जुड़ जाये | तुलसी अपने राम को रीझ भजो या खीझ, भूमि फेके उगेंगे उलटे-सीधे बीज || शिशुपाल ने भगवान का वैर से नाम लिया तो भी सद्गति हो गयी | पूतना ने भगवान को जहर पिलाया, तो भी सद्गति हुई | यशोदा ने भगवान को मक्खन खिलाया तो भी सद्गति हुई | तुलसीदासजी ने तो भगवान को ऐसे उल्हावने दिए की उनके प्रेम की महानता छलकती है | भगवान को बोलते हैं अँधा-धुन्धी है सरकार तुम्हारी | देखो भगत की कितनी ताकत होती है | बच्चे की कैसी ताकत राजा के कंधे चढ़ जाये | ऐसे ही भगत भगवान के कंधे चढ़ जाये | महाराज अँधा-धुन्धी है सरकार, रीझे दिनी लंक और खीझे दीन्हे परमपद || आप रीझ गये विभीषण पर तो लंकेश बना दिया और खीझे रावण पर तो, पत्नी ले गये, तो परमपद दे डाला | अपनी पत्नी ले गये उसको परमपद दे दिया | और जिसपर रीझे उसको लंक दी | भगवान को बोलो आप तो ऐसी सरकार हो चाहे जैसे हो, पानी में से मोती बरसा देते हो, गूंगे को बोलना सिखा देते हो | कुत्ते के मुंह से मनुष्य की भाषा करा देते हो | हेलिकॉप्टर चूर-चूर होकर पब्लिक के बीच गिरे और सब को बचा लेते हो | कैसी सरकार हो प्रभुजी, प्यारेजी, मेरेजी | भगवान के साथ बाते करो जरा | कभी-कभी हम तो बोलते हैं हे हरी तो बोलता है क्या है | हम तो बहुत मस्ती करते हैं गुरूजी से, भगवान से | 
अपने गुरूजी से वार्तालाप
एक बार गुरूजी को कहा हे मेरे साईं | बोले नही है बात करनी | बोले क्यों ? बोले इतने दिन आया नही, बोलता नही, बुलाता नही | नही बात करनी | अभी भी तो कर रहे हो | नही बात करनी ऐसे करके भी तो कर रहे हो मेरे साईं | बड़ा मजा आया गुरूजी से भी | साईं भी खुश और हम भी खुश | ऐसे भी भगवान से बाते किया करो | खूब आनंद आएगा | अभी देखो कितना आनंद आ रहा है | मेरे को भी आ रहा है | रोते बच्चे थोड़े ही अच्छे लगते हैं, हंसते बच्चे प्यार वाले बच्चे अच्छे लगते हैं | भगवान बोलते हैं खुद के मैं आत्मदेव हूँ | सबके अंदर हूँ | भगवान अपना एड्रेस बताते हैं | ईश्वरो सर्वो भूतानाम, हृदयसे अर्जुन तिष्टति, ब्राह्म्य्म सर्व भुतानी, यंत्र रुड़ानी मायया || मैं ईश्वर सब के हृदय में हूँ, लेकिन मन के यंत्र पर, बुद्धि के यंत्र पर चिंता के यंत्र पर, विकारो के यंत्र पर सब भ्रमित हो रहे हैं | फिर भ्रमित होते हैं तो माया | तो बोले हाँ मुझ देव की माया है | भगवान सत्य स्वीकार ने में देर नही करते | क्योंकी सत्य स्वभाव है भगवान का | भगवान कहते हैं देवी हेशा गुणमयी मम माया धृत्या || ये ३ गुण वाली मेरी माया बड़ी दुस्तर है | कोई शराब-कबाब में सुख खोज रहा है | कोई धन-दौलत बढ़ाने में सुख खोज रहा है | कोई पूजा-पथ में सुख खोज रहा है | और मानता है के ये तो लाभी है | मैं तो पूजा-पथ कर रहा हूँ | कोई बोलता है ये तो शराबी है, मैं तो धनवान हूँ | ऐसे-ऐसे अहम में भर जाते हैं | 
४ मवाली थे बोले मौन रखने में बड़ी शक्ति है | चलो आधा घंटा मौन रखे | मौन तो शुरू हुआ, ५ मिनट में बोला यार, चाबियाँ मैं दुकान की अपने पास लाया हूँ | घर वाले खोजते होंगे | अरे बोले मौन खोल दिया बेवकूफ कहीं का | तीसरे ने कहा बेवकूफ कहीं का मौन खोल दिया ऐसा बोलके तुम भी तो बेवकूफ हो गये | चौथा बोलता है सबसे भले हम अभी तक नही बोले | चारो ने बोल दिया और बोलते हैं सबसे भले हम अभी तक नही बोले | अभी तक नही बोले भी तो बोल दिया | इसी का नाम माया है, उलझ जाते हैं सब | अपने को किसी चीज, वस्तु का मालिक मन लेते हैं | अब शरीर अपना नही है और ये मेरी है, ये मेरी है | इसको ठीक करूं, उसको ठीक करूं | अप्ब्ने को तो तहिक करना छोड़ देते हैं, दुसरो को ठीक करते हैं | ये मेरी माया है | तो भगवान आपकी माया से कैसे तरे ? भगवान बोलते हैं ये माम प्रपनते, वे जो मुझे प्रपनते होते हैं, मुझे सुमिरते हैं, मेरा ज्ञान पाते, वे मुझे पा जाते हैं | जैसे मछुवारा चारो तरफ जाल डालता है, लेकिन जो मछली मछुवारे के पैरों में घूम रही हैं, उनपर मछुवारे की जाल नही जाती | ऐसे ही जो भगवान की शरण जाता है, हरी ॐ….भगवान में आ गये फिर माया में नही फंसोगे | १५ मिनट रोज करो माया से पार हो जाओगे |  
मेरी माँ को देखकर वैद्य ने कहा नाडी विपरीत चाले | मैं गया माँ के पास तो माँ बोली अब मुझे जाने दो | मेरी माँ मेरेको गुरु मानती थी, संत मानती थी | ये उसकी महानता है | बोले मेरे को प्रभु जाने दो | मैंने कहा मैं नही जाने दूंगा | कैसे जाती हो मैं देखता हूँ | मैं आगया संतत्व की मस्ती में | बोले क्या करूं ? मैं मन्त्र देता हूँ | आरोग्य का मन्त्र दिया |और तुलसी, निम्बू का रस देना शुरू किया | रोग प्रतिकारक शक्ति बढ़ गयी | २० ग्राम तुलसी का रस और एक निम्बू पिलाओ रोग प्रतिकारक शक्ति बढ़ जाती है | १ घंटे में मर जाने वाली अब २० घंटे से ज्यादा नही जी सकती, २ घंटे में भी मर सकती है |लेकिन मैक्सिमम २० घंटे | वो माँ तो ठीक होने लगी, २० घंटे हो गये, २० दिन हो गये | अमेरिका के मेरे भक्त आकर देखे लीवर ठीक कैसे हुआ ? किडनी ठीक कैसे हुआ ? ये पीछे के मनके कैसे ठीक हुए | ५०-६० महीने हो गये | कुछ डॉक्टर अच्छे डॉक्टर होते हैं न, समाज में सभी बुरे थोड़े ही होते हैं ? तो अच्छे-अच्छे डॉक्टर हंसी करते, माताजी तुमतो मरने वाली थी, अभी तक जिन्दी हो | तो मेरी माँ भी जरा चुटकी लेती मर जाएगी-मर जाएगी कहने वाले तो बहुत थे उसमें तो कई मर गये | मरना है तो तुम मरो, मेरे पासा मेरे भगवान का मन्त्र है | लो, बीटा प्रसाद खाओ | मेरी माँ भी बड़ा मजाक करती थी | मेरी माँ ८६ साल की थी, ९३ उस समय लीवर-बीवर सब ठीक | ॐ खम-खम समझ गयी मते-बहने-बिटियाँ | 
गाय का महत्व
प्रसूति होते समय, ओपरेशन कराओ, बच्चा टेढ़ा हो गया है, ऐसा है वैसा है | तो गोधरा में एक बहुरानी पहली बार माँ बन रही थी | उसका गर्भ टेढ़ा हो गया, सूज गयी | गोधरा के होस्पिटल ने कहा के जल्दी से पेट चिराओ | उन्होंने सुना हुआ था, मेरे भगत थे | डोक्टारो ने कहा जल्दी पेट चिराओ बच्चे को निकालो दोनों में से कोई १ बचेगा | उन्होंने कहा बापू ने मना किया है | तो फिर अहमदाबाद ले गये | गोधरा से बरोदा, बरोदा से अहमदाबाद | अहमदाबाद में बड़े-बड़े अच्छे डॉक्टर थे | फिर उन्होंने समिति वालो को फोन किया | बोले अब तो सभी बोलते हैं या माँ बचेगी या बालक बचेगा और जो बचेगा वो मेंटली रिटायर होगा | जल्दी से सिजेरियन कराना पड़ेगा बापू आज्ञा दे दो | मैंने कहा नही आज्ञा नही देते | गाये के गोबर का रस ले लो १० ग्राम भगवान का नाम जप करके पिलाओ आधा-पौना घंटे में प्रसूति हो जाएगी | नही हो तो फिर पिला देना | वो तो मेरे को मानते थे | मेरी आज्ञा के सिवाय कैसे कराए ? दे दिया गाये के गोबर का रस | वो बेटी भी चंगी, माँ भी चंगी | दूसरी बेटी हुई, तीसरा बीटा हुआ | सबके सब चंगे | ना माँ मरी, ना बच्चे मरे, ना मेंटली रे\रिटायर हुए | गाये में सूर्य के गौ-किरण पीने की सूर्य केतु नाडी है | इसलिए गाय का दूध पवित्र, गाय का झरण पवित्र, गाय का गोबर पवित्र | मरते समय भी गाये के गोबर का लेपन | है तो डबल गाय का, है तो सिंगल और डबल गाय का मरते समय वहां छिटकाव करते हैं | और श्मशान में भी जाते हैं तो गाय के गोबर का कंडा जलाते हुए जाते हैं ताकि मुर्दे के जो बैक्टेरिया हैं वो दुसरो को तंग ना करें | इतनी ऊँची हमारी संस्कृति है | तो गाय का दूध २ रूपये ज्यादा मिले भेंस से तो भी लेना चाहिए | गाये पालनी चाहिए पाल सकें तो | और कोई बीमार है और डॉक्टर बोले ये ठीक नहीं हो सकता | उस बीमार के आगे गाये रख दो | गाये को थोडा-बहुत खिलावे अपने हाथ से | और गाये के शरीर पे हाथ घुमाये | गाये की प्रसन्नता के वेवज निकलेंगे | उसकी आँख, ऊँगली के अगले भाग से | उसकी रोग प्रतिकारक शक्ति बढ़ेगी और निरोग हो जायेगा | ६-१२ महिना करे | असाध्य रोग भी मिट जाते हैं | 
गठिया की बीमारी है तो ॐ बम-बम जप करे सवा लाख शिवरात्रि के दिन | गठिया सदा के लिए गायब | वायु सबंधी बीमारी है, गैस है, तो १ लिटर पानी में ३ बिली पत्ते, २-३ काली मिर्च डाल कर उबालें अथवा जरा सा अज्वैन | उबाल कर पौना लिटर करें | और वो पानी पुरे दिन पिए | वायु शांत | पीत है आँखे जलती हैं, तो २ लिटर पानी उबल के १ लिटर बना ले | और वो पिए, पीत शांत हो जायेगा | कईयों को सर्दी हो जाती है तो दये नाक से स्वास लें, रोके सवा मिनट, डेढ़ मिनट फिर बाये से छोड़े | ऐसा ३-४ बार करें २ दिन सर्दी भाग जाएगी | सर्दी, खांसी की दवा लेने से कफ सुख जाता है | ट्यूमर बनता है, कैंसर बनता है | हार्ट अटक बनता है | ये अंग्रेजी दवा जहर से भी ज्यादा नुकसान करती है | जहर तो एक बार मारता है, ये तो बार-बार मारता है | खली पेट | 
होली के रंगों की सत्यता
अभी होली आएगी तो लोग होली क दिनों में रंगो से खेलते हैं | ये होली में रंग खेलने की परम्परा हमारी भारतीय संस्कृति की है | लेकिन इसलिए बनाई थी के होप्ली के दिनों में सूर्य थोडा पृथ्वी के नजिक होने से हमारे शरीर पर गर्मी की असर पडती है | कफ पिघलता है, भूख कम हो जाती है | और स्वभाव चिडचिडा होता है | तो स्वभाव चिडचिडा, कफ और बीमारी को नियंत्रित करने वाला पलाश के रंग से होली खेलते थे | अथवा तो दुसरे प्राकृतिक रंगो से | अंग्रेजी शासन के कारण हम पलाश के फुल भूल गये | गेंदे के फुल अथवा महेंदी से, हल्दी रंग बनते है | २०१० की ऋषि प्रसाद पुस्तक में कौन सा रंग कैसे बनता है | जैसे आवले के पावडर को लोहे के बर्तन में भिगोने से काला रंग बनता है | लेकिन केमिकलसे बना काला रंग लेड ऑक्साइड पड़ता है | जो किडनी को खराब करता है | महेंदी से हर रंग तो फायदा करता है लेकिन अंग्रेजी रंग में कॉपर सल्फेट पड़ता है जो आँखों में जलन,. सुजन और अस्थाई दृष्टि कमजोर कर देता है | सिल्वर रंग में एल्युमीनियम ब्रोमाईट पड़ता है जो कैंसर पैदा करता है | अब करोड़ो रूपये के तो हम रंग खरीदे, और अरबो रुपया हम बीमारी के लिए दे | गुलाम बना दिया अंग्रेजो ने | मैंने विरोध नही किया | मैंने पलाश के फूलो से होली खेलना चालू करा | और इन रंगो की पोल प्रजा को सुनाया | नीला रंग प्रेशियन ब्लू पड़ता है जो चरम रोग देता है, खुजली आदि देता है | और लाल रंग में मरक्यूरिक सल्फेट पड़ता है जो त्वचा को कैंसर देता है | और जो बैंगनी रंग मिलता है बजार में उसमें क्रोमियम आयोदाईट पड़ता है जो दमे की बीमारी और एलर्जी देता है | कोई भी रंग निर्दोष नही है तो आप ध्यान रखना होली के दिनों में इन रंगो से खेल कर दुसरो को बीमारी नहीं देना और अपने पैसे को तबाह मत करना | होली खेलना है तो पलाश के फूलो से | पलाश के फुल रत को भीगा दिया सुभ उससे खेले | वर्ष भर रोग-प्रतिकारक शक्ति रक्षा करेगी | होली के १५-२० बाद नमक बिना का भोजन करो | कई बीमारियाँ भाग जाएँगी | नीम के पत्ते १५-२०-२५ कोमल १ काली मिर्च चबाके पानी पियो | जठरा और ये सब ठीक रहेगा | 
अब माघ मॉस में शट-तिला एकादशी आएगी | उसमें स्नान, तील मिला उपटन, तिल मिला भोजन, तील का दान, तील का होम, आदि तील का प्रयोग करने से पूण्यदाई शट-तिला एकादशी हो सकती है | १२ फरवरी को  विष्णु पदी संक्रांति है, , उसमें पुण्यकाल दोपहर को १२:५३ से लेकर सूर्यास्त तक १०,००० गुना फल होगा जप का | १७ फरवरी रविवार की सप्तमी है | लाख गुना फल देगी | सुभ सूर्य उदय से लेकर १२:४८ मिनट तक | आरोग्य का मन्त्र जपोगे तो नोरोग रहोगे | स्वास भरो, रोको, जपो नासे रोग हरे सब पीर, जपत निरंतर हनुमत बीरा || ऐसा सवा मिनट, डेढ़ मिनट स्वास रोक के जपो | फिर छोड़ दो | ऐसा २-५ बार करो फिर १-२ बार स्वास बाहर रख के जपो | फिर छोड़ दो | मन्त्र सिद्धि होगी और रोग जल्दी आएगा नहीं | अथवा दूसरा मन्त्र भी है आरोग्य के | तो आरोग्य का मन्त्र जपोगे तो वो भी निरोगता की सिद्धि और किसी को भी दोगे तो वो भी निरोग हो जायेगा | भूलकर भी रविवार की सप्तमी को संसारी व्यवहार ना हो और भूलकर भी झूट, कपट, बेईमानी मतलब पाप ना हो | जितना पुण्य हो जाये उसका लाख गुना होगा | फिर १८ फरवरी भीष्म पितामह का श्राद्ध, तर्पण दिवस है | जिसको सन्तान नही होती तर्पण दें | २१ फरवरी जय एकादशी | ब्रह्म हत्या जैसे बड़े-बड़े पाप भी नाश होते हैं | और पिशाचत्व की प्राप्ति नही होती | वो आदमी पिशाच नही बन सकता | नही तो मुसोलीन पिशाच बन गया | अब्राहम लिंकन बनके व्हाईट हॉउस में भटकता है | २२ फरवरी तील द्वादशी है | २२ फरवरी को स्नान, दान, होम, भोजन में मतलब फलाहार में तील हो | ब्रह्मपुराण में लिखा है | वो व्याधियों से रक्षा करेगा | 
ॐ कार कंठ से १० बार | २२,००० श्लोक हैं ॐ कार जप की महिमा के | दीक्षा लेने से गुरु-शिष्य के आत्मा एकाकार हो जाती है | तो फिर दुरी दुरी नही रहती | भगवान ने भी ॐ कार मन्त्र की खोज की है | खोज उसी की होती है जो पहले था | निर्माण उसी का होता है जो पहले नही था | ॐ कार मन्त्र और बिज मन्त्र श्रृष्टि के मूल से थे | भगवान ने तो ब्रह्माजी को पैदा किया | उसके पहले ॐ कार मन्त्र था | इसलिए तमाम मन्त्र में ॐ कार की साधना है | 
 
 
 
 

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.