bapubhakton ki deshwaasiyon ko aawaaj….

Shri Ganesh Chaturthi 9/9/2013

बापुभक्तों की देशवासियों को आवाज ….. 

हरि ॐ

बापूजी करुणा के सागर  है…यदि हाथ में जल लेकर अभी संकल्प करेंगे तो सारे षड्यंत्रकारी नष्ट हो जाएँगे क्यों की संतत्व में वो शक्ति होती है…बापूजी  महापुरुष है..युगपुरुष है..

बापूजी पर लगे गंदे आक्षेप, आरोपो का खंडन करने के लिए अपना जन-आक्रोश प्रदर्शित करने के लिए सारे भक्त आज मछली की तरह तड़प रहे है..

Image

Image

यह जनता बता देना चाहती है प्रशासन को , केंद्र को की दुनिया की कोई ताकद हमारे दिलों से बापूजी को  जुदा नही कर सकती है…

हम करोड़ो लोग जानते है की हमारे बापूजी कैसे है..उन के दर्शन मात्र से काम क्रोध भाग जाता है..वासना मिट जाती है.. उन का सत्संग सुनते तो करोड़ो पति-पत्नी ब्रम्हचर्य व्रत लेते है, अध्यात्मिक उत्थान में एकदुसरे के सहयोगी बन जाते है..ये हमारा अनुभव है तो ऐसे पवित्र महापुरुष पर ऐसा घिनौना आरोप स्वप्ने में भी हम सच नही मानेंगे..

भगवान कृष्ण  द्वापर में आए थे इस पृथ्वी को दुष्टों से मुक्ति दिलाने के लिए, भगवान राम तो त्रेता में आए थे लेकिन आज के इस घनघोर कलियुग में बापूजी  भारतवासियों को और संपूर्ण विश्व के करोड़ो करोड़ो को दुखो से, यातनाओ से, रोगों से, कष्टों से, शोक से , आसक्तियों से, वासनाओ से,व्यसनो से मुक्ति दिला रहे है… ऐसे महान युगपुरुष का विडंबन अब नही सहेंगे हम…

अब कोई सपना ना देखे की ये संस्कृति मिटा दी जाएगी

जो भारत को मिटाना चाहेंगे वो जीभ काट ली जाएगी

जो भारत को घर समझेंगे उस से कुछ कहें नही होगा लेकिन अब बापू-द्रोही सहेन नही होगा..

सहेते सहेते हम सीमा पार कर आए है सब सहेने की..इसलिए अब ज़रूरत पड़ती है चिल्ला चिल्ला कर कहेने की…

कि भारत की धरती पर जिस को हमारे बापूजी से प्यार नही होगा उस को भारत में रहेने का अधिकार नही होगा!!!!

 

 

कौन है बापूजी?

बापूजी हमारी आस्था है…बापूजी हमारी आत्मा है..हमारे जीवन का सर्वस्व है बापूजी..हमारे जीवन का उजाला है बापूजी..हमारे जीवन की सुबह , हमारे जीवन की शाम है बापूजी..जलते हुए दीपक के लौ में जो रोशनी दृष्टिगोचर होती है उस रूप का नाम है बापूजी..

लाखो करोड़ो भक्तो को व्यसन से मुक्त करा देनेवाले  है बापूजी ..अंधेरे में घीरे आत्माओं को अध्यात्म का प्रकाश देनेवाले है बापूजी..नन्ही नन्ही आँखों को एक सुलभ, सुगम अध्यात्म भरा वातावरण देनेवाले है बापूजी..

टूटे परिवारों को जोड़ते है बापूजी..उजड़े दिलों को संवारते है बापूजी..अज्ञान का अंधकार मिटाते है बापूजी..भटके हुए को राह दिखाते है बापूजी..आत्महत्या करनेवालों को बचाते है बापूजी…

धर्म क्या है?- सिखाते है बापूजी, धर्मांतरणवालों को रोकते है बापूजी..गुटका-शराब-कबाब छुड़वाते है बापूजी..गौ माता की रक्षा करते है बापूजी..नारी का सन्मान सिखाते है बापूजी…माता पिता का पूजन कराते है बापूजी..जीवन जीने की कला सिखाते है बापूजी..

 

कैसे वर्णन किया जा सकता है शब्दो में की कौन है हमारे  बापूजी?…आँखों के रास्ते खून आँसू बनकर बाहर आना चाहता है की  ऐसे महान महापुरुष को युगपुरुष को भारत की पवित्र धरती पर  इतना कष्ट?

 

भारत का गौरव है बापूजी… भारतीय संस्कृति का स्तंभ है बापूजी…  इस घोर कलियुग में आज भारतीय संस्कृति की नीव है बापूजी… अटक से लेकर कटक तक-कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक भारतीय संस्कृति का अगर किसी ने दर्शन करवाया है तो वो है हमारे बापूजी…

 

बापूजी ने हमें क्या दिया?

बापूजी ने बताया की पत्थरों में भी भगवान है लेकिन उस को देखनेवाला भगवान हमारे हृदय के अंदर ही बैठा है…बापूजी ने बताया की तर्पण करने से हमारे पूर्वज कृतकृत्य हो जाएँगे वरना हम तो हमारे सनातन धर्म को भूल ही गये थे…  बच्चों के अनेको बार योगशिबीर कर के असंख्य बच्चों का जीवन उज्ज्वल कर दिया है बापूजी ने..युवानो को वासनाओ की गंदी नालियों में गिरने से बचाया है बापूजी ने… ध्यानयोगशिबीर का आयोजन कर के कितने कितने अंधियारी ज़िंदगियों को सँवारा है बापूजी ने..

उदारता करुणा से भरे हुए है बापूजी..

हमारे बापूजी ने बताया हमें की माता पिता के चरण आस्था और श्रध्दा का केंद्र होते है , प्रातः काल उठ कर अपने माता पिता के चरणों को वंदन करना..मात्र-पितृ पूजन दिवस मनाना सिखाया है बापूजी ने.. जनमदिन पर श्रध्दा से प्रेम दीप जलाना तो अंधेरे से उजियाले की तरफ चलेगा ये हमें किसी ने नही बताया था जो बापूजी ने बताया…शील की महिमा क्या होती है-सतीत्व क्या होता है ये हमें बापूजी ने बताया..घर परिवार में शांति और मेल बनाए रखना, किसी की निंदा नही करना ये बापूजी ने हमें सिखाया है… बापूजी आप तो करुणा के सागर है…

 

अगर अब भी देशवासी नही जागे तो क्या होगा?सब से बड़ा नुकसान ये होगा की इस देश में समर्थ रामदास नही होंगे तो शिवाजी महाराज कैसे मिलेंगे?भारत के गौरवशाली  संस्कृति को मिटाने की कोशिशे जो पिछले 1200 सालों में यशस्वी नही हुई है  वो इन 10 साल में होने की संभावना है.. यह मानवता का  सब से बड़ा नुकसान है..

रात दिन अहर्निश प्रवास करनेवाले बापूजी..अपने लिए केवल 4 घंटे निद्रा के लिए देनेवाले बापूजी..किस के लिए करते है इतना प्रवास,इतना आयोजन, इतना सत्संग कार्यक्रम?किस के लिए? जब कभी किसी को कुछ  दिया जाता है तो पहेले अपने आप को त्याग-अग्नि के हवाले करना पड़ता है..अपनी होली जलाओगे तभी किसी की दीवाली मानती है..अपने आप को आहूत कर दिया है बापूजी ने हमें ज्ञान और संस्कार देने के लिए..अपने संसार को,अपने  इच्छाओं को, अपनी कामनाओं को आहूत कर दिया है बापूजी ने हमारे लिए, भारतीय समाज के लिए, विश्व के लिए…

 

ऐसे पवित्र बापूजी जिन का सारा जीवन केवल लोगों के अध्यात्मिक उत्थान के लिए ही है -जिन्हे लोग प्यार से “लोकसंत बापूजी” कहेते है.. ऐसे महान राष्ट्रसंत पर पिछले 4 सालों से लगातार कुप्रचार और षडयंत्र किया जा रहा है…सभी आरोप बेबुनियाद सिध्द हुए…..फिर भी 75 वर्ष की आयु में इस महापुरुष को कॉंग्रेसी सरकार की पुलिसे रात को 12.30 बजे हिरासत में लेती है, उन से भयानक गुनहगार की तरह बर्ताव करती है..आज 9 दिन से उन्हे जोधपुर जैल में रखा गया है …ऐसे निर्मल निर्दोष साक्षात भगवत स्वरूप महात्मा की इतनी प्रताड़ना इस देश में हो रही है..बिका हुआ मीडिया अभी भी कीचड़ उछाल रहा है… दादाजी ने स्नेह से आशीर्वचन देने पर पोती ने बलात्कार का आरोप लगाने जैसा यह भद्दा षडयंत्र है … अगर आज हम इसे चुपचाप सहेते है तो कल हमारे नाती-पोते भी हमारे साथ यही करेंगे ….कोंग्रेसी सरकार हमें ऐसा ही तो बनाना चाहती है …. जागो जागो हे भारत माँ के दुलारों , हमारे प्यारे देशवासियों जागो ….

Image

Bapuji  karunaa ke saagar  hai…yadi hath mein jal lekar abhi sankalp karenge to sare shadyantrakari nasht ho jayenge kyon ki santatv mein vo shakti hoti hai…Bapuji  mahaapurush hai..yugpurush hai..

Bapuji par lage gande aakshep, aaropo ka khandan karane ke liye apanaa jan-aakrosh pradarshit karane ke liye saare bhakt aaj machhali ki tarah tadap rahe hai..

yah janataa bataa denaa chaahati hai prashaasan ko , kendr ko ki duniyaa ki koyi taakad hamaare dilo se Bapuji ko  judaa nahi kar sakati hai…

hum karodo log jaanate hai ki hamaare Bapuji kaise hai..un ke darshan matr se kaam krodh bhag jata hai..waasanaa mit jaati hai.. un ka satsang sunate to karodo pati-patni bramhchary vrat lete hai, adhyatmik uththan mein ekdusare ke sahayogi ban jaate hai..ye hamaaraa anubhav hai to aise pavitr Mahaapurush par aisa ghinauna aarop swapne mein bhi hum sach nahi maanenge..

bhagavaan krishn  dwaapar mein aaye the is prithvi ko dushton se mukti dilaane ke liye, Bhagavan Ram to treta mein aaye the lekin aaj ke is ghanghor kaliyug mein Bapuji  bhaaratwasiyon ko aur sampurn vishw ke karodo karodo ko dukho se, yaatanaao se, rogon se, kashton se, shoko se , aasaktiyon se, waasanaao se,vyasano se mukti dilaa rahe hai… Aise Mahaan Yugpurush ka vidamban ab nahi sahenge hum…

ab koyi sapanaa naa dekhe ki ye sanskruti mita di jaayegi

jo bhaarat ko mitaanaa chahenge vo jibh kaat li jaayegi

jo bhaarat ko ghar samajhenge us se kuchh kahen nahi hoga lekin ab Bapu-drohi sahen nahi hoga..

sahete sahete hum seema paar kar aaye hai sab sahene ki..isliye ab jarurat padati hai chillaa chillaa kar kahene ki…

ki bhaarat ki dharati par jis ko hamaare Bapuji se pyar nahi hoga us ko bhaarat mein rahene ka adhikaar nahi hogaa!!!!

 

 

Kaun hai Baapuji?

Baapuji hamaari aastha hai…Bapuji hamaari aatma hai..hamaare jeevan kaa sarvasw hai Bapuji..hamaare jeevan ka ujaalaa hai Bapuji..hamaare jeevan ki subah , hamaare jeevan ki shaam hai Baapuji..jalate huye dipak ke lau mein jo roshani drushtigochar hoti hai us roop ka naam hai Bapuji..

laakho karodo bhakto ko vyasan se mukt karaa denewaale  hai Baapuji ..andhere mein gheere aatmaaon mein adhyaatm kaa deepak jalaa denewaale hai Bapuji..nanhi nanhi aankhon ko ek sulabh, sugam adhyam bharaa vaataavaran denewaale hai Bapuji..

tute pariwaron ko jodate hai Bapuji..ujade dilon ko sawaarate hai Bapuji..agyan ka andhakar mitaate hai Bapuji..bhatake huye ko raah dikhaate hai Bapuji..aatmhatya karanewalon ko bachaate hai Bapuji…

dharm kya hai sikhate hai Bapuji,dharmaantaran walon ko rokate hai Bapuji..gutaka-sharaab-kabaab chhudawaate hai Bapuji..gau mata ki raksha karate hai Bapuji..nari ka sanmaan sikhaate hai Bapuji…mata pita ka pujan karaate hai Bapuji..jeevan jine ki kalaa sikhate hai Bapuji..

 

kaise varnan kiyaa jaa sakataa hai shabdo mein ki kaun hai hamaare  Bapuji?…aankhon ke raaste khun aansu banakar baahar aanaa chaahata hai ki aise mahaan Mahaapurush ko Yugpurush ko Bhaarat ki pavitr dharati par itanaa kasht?

 

bhaarat ka gaurav hai Bapuji… bhaaratiy sanskruti ka stambh hai Bapuji…  is ghor kaliyug mein aaj bhaaratiy sanskriti ki Neev hai Baapuji… atak se lekar katak tak-kashmir se lekar kanyakumaari tak bhaaratiy sanskriti ka agar kisi ne darshan karavaayaa hai to vo hai hamaare Baapuji…

 

Baapuji ne hamein kya diyaa?

Bapuji ne bataya ki paththaron mein bhi bhagavaan hai lekin us ko dekhanewala bhagavaan hamaare hruday ke andar hi baitha hai…Bapuji ne bataya ki tarpan karane se hamaare purvaj kritkrutya ho jaayenge varanaa hum to hamaare sanaatan dharm ko bhul hi gaye the…  bachchon ke aneko baar yogshibir kar ke asankhya bachchon ka jeevan ujjwal kar diya hai Bapuji ne..yuwano ko wasanaao ki gandi naliyon mein girane se bachaya hai Bapuji ne… dhyanyogshibir ka aayojan kar ke kitane kitane andhiyari jindagiyon ko sanwara hai Bapuji ne..

udaarataa karunaa se bhare huye Bapuji..

hamaare Bapuji ne bataya hamein ki mata pita ke charan aastha aur shradhda ka kendr hote hai , praatah kaal uth kar apane mata pita ke charanon ko vandan karanaa..matri-pitri pujan diwas manana sikhaya hai Bapuji ne.. janamdin par tu shradhdaa se prem dip jalana to andhere se ujiyaale ki taraf chalegaa ye hamein kisi ne nahi bataya thaa jo Bapuji ne bataya…sheel ki mahima kya hoti hai-satitv kya hota hai ye hamein bapuji ne bataya..ghar pariwar mein shanti aur mel banaye rakhanaa, kisi ki ninda nahi karanaa ye Bapuji ne hamein sikhaya hai… Bapuji aap to karunaa ke saagar hai…

 

 

agar ab bhi deshwasi nahi jaage to kya hoga?sab se badaa nuksaan ye hoga ki is desh mein samarth ramdas nahi honge to shivaji maharaj kaise milenge?bharat ke gauravshali  sanskruti ko mitaane ki koshishe jo pichhale 1200 saalon mein yashaswi nahi huyi hai  vo in 10 saal mein hone ki sambhavana hai.. yah maanavataa ka  sab se badaa nuksaan hai..

 

raat din aharnish pravaas karanewaale Bapuji..apane liye kewal 4 ghante nidra ke liye denewaale Bapuji..kis ke liye karate hai itanaa prawaas,itanaa aayojan, itana satsang karyakram?kis ke liye? jab kabhi kisi ko kuchh diya jata hai to pahele apane aap ko tyag-agni ke hawaale karanaa padataa hai..apani holi jalaaoge tabhi kisi ki diwaali manati hai..apane aap ko aahut kar diya hai Bapuji ne hamein gyan aur sanskar dene ke liye..apane sansar ko,apane  ichhaon ko, apani kaamanaaon ko aahut kar diya hai Bapuji ne hamaare liye, bharatiy samaaj ke liye, vishw ke liye… Aise  pavitr Bapuji jin ka sara jeevan kewal logon ke adhyatmik uththaan ke liye hi hai -jinhe log pyar se “loksant bapuji” kahete hai.. aise mahaan rashtrsant par pichhale 4 salon se lagaataar kuprachaar aur shadayantr kiya jaa rahaa hai…sabhi aarop bebuniyaad sidhd huye…..phir bhi 75 varsh ki aayu mein is mahaapurush ko kongresi sarakaar ki pulice raat ko 12.30 baje hiraasat mein leti hai,un se bhayaanak gunahgaar ki tarah bartaav karati hai..aaj 9 din se unhe jodhpur jail mein rakhaa gayaa hai …aise nirmal nirdosh saakshaat bhagavat swarup mahaatmaa ki itani pradaadanaa is desh mein ho rahi hai..bikaa huaa midiya abhi bhi kichad uchhaal rahaa hai… dadaji ne sneh se ashirvachan dene par poti ne balaatkaar ka aarop lagaane jaisa yah bhadda shadayantr hai..agar aaj ham ise chupchaap sahete hai to kal hamaare naati –pote bhi hamaare sath yahi karenge..kongresi sarakaar hamen aisaa hi to banaanaa chaahati hai…jago jago hey bhaarat maan ke dulaaron, hamaare pyaare deshwaasiyon jago…..

 

aise mahaan Yugpurush ko shadayantr se jhuthe aaropon mein phansaa kar jis prakaar  nestanaabut kiya jaa rahaa hai is ke virodh mein hum sampurn bhaarat mein shanti purn railly aur dharanaa pradarshan kar rahe hai.. 

isliye hey bhaarat maa ke pyaaro! aao.. aap bhi hamaare sath ho jaao.. 

 

Aise gangaajal se bhi adhik pavitr Bapuji jin ka sara jeevan kewal logon ke adhyatmik uththaan ke liye hi hai -jinhe log pyar se “loksant bapuji” kahete hai.. aise mahaan rashtrsant par pichhale 4 salon se lagaataar kuprachaar aur shadayantr kiya jaa rahaa hai…sabhi aarop bebuniyaad sidhd huye…..phir bhi 75 varsh ki aayu mein is mahaapurush ko kongresi sarakaar ki pulice raat ko 12.30 baje hiraasat mein leti hai,un se bhayaanak gunahgaar ki tarah bartaav karati hai..aaj 9 din se unhe jodhpur jail mein rakhaa gayaa hai …aise nirmal nirdosh saakshaat bhagavat swarup mahaatmaa ki itani pradaadanaa is desh mein ho rahi hai..bikaa huaa midiya abhi bhi kichad uchhaal rahaa hai… dadaji ne sneh se ashirvachan dene par poti ne balaatkaar ka aarop lagaane jaisa yah bhadda shadayantr hai..agar aaj ham ise chupchaap sahete hai to kal hamaare naati –pote bhi hamaare sath yahi karenge..kongresi sarakaar hamen aisaa hi to banaanaa chaahati hai…jago jago hey bhaarat maan ke dulaaron, hamaare pyaare deshwaasiyon jago…..

 

Advertisements
Explore posts in the same categories: Uncategorized

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s


%d bloggers like this: